मन को किसने फेरा है

चित्र हुआ धुंधला जीवन का,

दुविधाओं का डेरा है।

बुद्धि जटिलताओं में उलझी,

मन को किसने फेरा है।।


क्यों अनचाही राहें आकर

पैरों में बेड़ी डालें,

साथ जुड़ा अंधियारों से है

दीखे नहीं सवेरा है।

मन को किसने फेरा है।।


मैंने कब मोती मांगे थे,

कब सुख की आशा रखी,

किन्तु सतत उर टूट रहा है

कष्ट यही बस मेरा है।

मन को किसने फेरा है।।


मन को कैसे शिला बनाऊॅं,

विधि तू ही अब बतला दे।

नहीं सहन होता है इतनी

पीड़ाओं ने घेरा है।

मन को किसने फेरा है।।


डॉक्टर श्वेता सिंह गौर, हरदोई







Popular posts
जयप्रकाश का बिगुल बजा तो जाग उठी तरुणाई है।
Image
कृषक इंटर कॉलेज में स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर छात्र छात्राओं ने देशभक्ति गीतों के साथ किया अपनी कला का प्रदर्शन।
Image
दि किसान सहकारी चीनीमिल में चल रहे मशीनों की मरम्मत कार्य का निरीक्षण करने पहुंचे अपर सचिव चीनी उद्योग एवं गन्ना विकास व आबकारी विभाग संजय आर भूसरेड्डी ।
Image
युवक ने जहर खाकर की खुदकुशी
Image
पूर्व एमएलसी की माँ का निधन, जताई गई संवेदना
Image