बेबाक हो जाए।
चुनौतियों का सामना करते हैं, सच्चाई के लिए लड़ते हैं, इंसानियत पर डट कर चलते हैं चलो निडर बनते हैं! आंसुओं को मुस्कान में बदलते हैं, अच्छाइयों में ढलते हैं, हिम्मत कभी नहीं हारते हैं, चलो साहसी बनते हैं! भ्रष्टाचार का बहिष्कार करते हैं, गलत आदतों से लड़ते हैं, असफलताओं से नहीं घबराते हैं, चलो बहादु…
Image
निडर बनो!
चुनौतियों का सामना करते हैं, सच्चाई के लिए लड़ते हैं, इंसानियत पर डट कर चलते हैं चलो निडर बनते हैं! आंसुओं को मुस्कान में बदलते हैं, अच्छाइयों में ढलते हैं, हिम्मत कभी नहीं हारते हैं, चलो निडर बनते हैं! भ्रष्टाचार का बहिष्कार करते हैं, गलत आदतों से लड़ते हैं, असफलताओं से नहीं घबराते हैं, चलो निडर ब…
Image
उड़ान
काश मुझे भी पंख मिल जाए, उन्मुक्त गगन में मैं उड़ जाऊं। जो करना चाहूं मैं कर लूं, निर्बाध गति से आगे बढ़ जाऊं। लेखनी मेरी हो प्रबल, कृपा इतनी मुझ पर कर दो। हृदय में सबके बसती जाए, कल्पना मेरी हो सबल। खुले आकाश में विचरण कर लूं, कभी चांद कभी सूरज छू लूं। तारों से मेरी हो चमक, नील गगन को मैं तो छू लू…
Image
अंतर्आत्मा तृप्त जब होती
नाम कमाने कि हर ओर होड़ लगी दूजों को गिराने की देखो दौड़ लगी करे कोई नाम मेरा हो बस  एसी संकुचित सोच की जोड़ लगी।। जिसे पुण्य कमाना उसे फर्क न पड़ता प्रभु उनके नाम में स्वयं हीरा है जड़ता।। वो तो प्रभु के भक्त बन सेवा करते जाते नाम चाहने वाले कभी न कभी तो गिर जाते।। सेवा करने वालों को प्रभु दिल में…
Image
भगवतीचरण वोहरा की शहादत: इतिहास के पन्नों से
भगत सिंह के महत्वपूर्ण साथी भगवतीचरण वोहरा का जन्म 4 नवंबर, 1903 को लाहौर में हुआ था, जो अब पाकिस्तान में है। वे एक गुजराती ब्राह्मण थे। उनके पिता पंडित शिवचरण वोहरा रेलवे में एक उच्च पदस्थ अधिकारी थे। उन्हें अंग्रेजों द्वारा 'रायसाहब' की मानद उपाधि से सम्मानित किया गया था। चूंकि उस समय टाइ…
Image
बड़े बुजुर्ग हमारे थिंक टैंक हैं
जनरेशन गैप की वर्तमान में बढ़ती समस्या- समाधान आपस में ढूंढना ज़रूरी  बच्चों और अभिभावकों में आपस में मैत्रिता का भाव जगाने की कोशिश होना चाहिए- एड किशन भावनानी गोंदिया - जनरेशन गैप एक प्राकृतिक क्रिया है। इस दिशा में किए गए अध्ययनों से पता चला है कि एक पीढ़ी दूसरी पीढ़ी से अलग क्यों है? ऐसा कुछ है …
Image