सुनों स्वप्न !

नींदों की पलकों पर ठहरा स्पर्श तुम्हारा ये चुपचाप,

झंकृत कर जाते हो अंतस को, जैसे बूंदों में सैलाब !!


जब भी आंचल फैलाती हूं, झर-झर तारे इतराते हैं, 

चुन लेती हूं आखें मूंदकर, करती नहीं कोई सवाल !!


जब मन तुमको दोहराए, "सच" बनकर आ जाना तुम

बिखरे हैं हालात ये मन के, रुक जाना बनकर ठहराव !!


जी लूंगी पल-पल तेरा, आ जाना..बस आ जाना तुम,

स्मृतियों में रहो हमेशा, तुम अंतस में..तुमसे हर सांस !!


नमिता गुप्ता "मनसी"

मेरठ, उत्तर प्रदेश 


Popular posts
जयप्रकाश का बिगुल बजा तो जाग उठी तरुणाई है।
Image
कृषक इंटर कॉलेज में स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर छात्र छात्राओं ने देशभक्ति गीतों के साथ किया अपनी कला का प्रदर्शन।
Image
दि किसान सहकारी चीनीमिल में चल रहे मशीनों की मरम्मत कार्य का निरीक्षण करने पहुंचे अपर सचिव चीनी उद्योग एवं गन्ना विकास व आबकारी विभाग संजय आर भूसरेड्डी ।
Image
युवक ने जहर खाकर की खुदकुशी
Image
पूर्व एमएलसी की माँ का निधन, जताई गई संवेदना
Image