चिकोटी

सड़कों पर मुद्दा बनी,

मंहगी रोटी दाल।

दिल्ली दिल से जी रही,

पचहत्तर का काल।

आम चाहे सतहत्तर।

-धीरु भाई