दया (विजात छंद )

दया में भाव हो सारे

सुखों के बीज बो प्यारे 

बसी उर भावना मेरी,

करूँ आराधना तेरी ||


बिना   तेरे   रहूँ   कैसे,

बिना जल मीन के जैसे |

चले  आओ  सुनो  मेरी,

करूँ  मैं  वंदना   तेरी ||


पधारो श्याम जी प्यारे,

परम सौभाग्य हो द्वारे |

तुझे   परमार्थ  भायेगा,

नहीं कुछ व्यर्थ जायेगा ||


दया का भाव हो प्यारे,

सहारा  हम  बने  सारे |

मनुज काया नहीं तेरी,

जगत माया सभी मेरी ||


मिटा  दो  अंधकारों को,

जले  अब दीप द्वारों को |

सुनो अब धर्म  को धारो,

वचन तुम सत्य स्वीकारो ||


दया  ही वो  खजाना है,

जिन्हें सब पर लुटाना है |

दया  करना  सदा  दाता,

जुड़ा  तुमसे   रहे  नाता ||

_________________


कवयित्री

कल्पना भदौरिया "स्वप्निल "

लखनऊ

उत्तरप्रदेश


Popular posts
जयप्रकाश का बिगुल बजा तो जाग उठी तरुणाई है।
Image
कृषक इंटर कॉलेज में स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर छात्र छात्राओं ने देशभक्ति गीतों के साथ किया अपनी कला का प्रदर्शन।
Image
दि किसान सहकारी चीनीमिल में चल रहे मशीनों की मरम्मत कार्य का निरीक्षण करने पहुंचे अपर सचिव चीनी उद्योग एवं गन्ना विकास व आबकारी विभाग संजय आर भूसरेड्डी ।
Image
युवक ने जहर खाकर की खुदकुशी
Image
पूर्व एमएलसी की माँ का निधन, जताई गई संवेदना
Image