चिकोटी

हम फागुन से हैं भले,

बता रहा है माघ।

निकल पड़ा है शान से,

फिरि जंगल में बाघ।

जीव की सेवा करने।

- धीरु भाई