नन्हें-मुन्ने बाल कलाकारों ने दिखाई महापुरूषों की जीवंत झांकियां।

‘अपनी कहानी-अपनी जुबानी’ द युनिक टेलन्ट शो का हुआ आयोजन

बाड़मेर : परम पूज्या मुनि श्री विवेकसागरजी म.सा. आदि ठाणा 4 के निजानंदी चातुर्मास बाड़मेर नगर में स्थानीय जिनकांतिसागर सूरि आराधना भवन में चल रहा है। चातुर्मास के दौरान विभिन्न कार्यक्रमों का आयोजन किया जा रहा है।

खरतरगच्छ संघ चातुर्मास समिति, बाड़मेर के अध्यक्ष प्रकाशचन्द संखलेचा़ व सज्जनराज मेहता़ ने बताया कि स्थानीय आराधना भवन में श्री कुशल विचक्षण जैन धार्मिक पाठशाला के नन्हे-मुन्ने बालक-बालिकाओं द्वारा महापुरूषों के जीवन चरित्र की जीवंत झांकियांे के कार्यक्रम की प्रस्तुति दी। कार्यक्रम का आगाज मुनि श्री विेवकसागरजी म.सा. के मंगलाचरण से किया गया। नन्हें-मुन्ने बाल कलाकारों ने महावीर स्वामी, पार्श्वनाथ, स्थूलीभद्र, मेघरथराजा, पद्मावती, मेघरथ राजा, पदमावती, लक्ष्मीदेवी, सरस्वती, रजोहरण, जमीकंद, इन्द्र, परमाधामी, त्रिशला माता, प्रियवंदा दासी, अइमुक्ता मुनि, निगोद, गर्भ की गुड़िया, प्रत्येक वनस्पतिकाय, आलू, मरूदेवी माता, चन्दनबाला, सुलसा सती, सुभद्रा सती, गौतम स्वामी आदि के जीवन चरित्र की प्रस्तुति दी।  

कार्यक्रम का संचालन व निर्देशन सानू वडेरा, पूजा संखलेचा ने किया। कार्यक्रम में उदय गुरूजी, चन्द्रप्रकाश छाजेड, दीपक बोहरा, अशोक संखलेचा, रक्षा मालू़ का सहयोग रहा। जजमेंट वीरचंद भंसाली, कैलाश बोहरा, मुकेश बरड़िया द्वारा किया गया।

खरतरगच्छ सहस्त्राब्दी महोत्सव 2023 में-

खरतरगच्छ संघ चातुर्मास समिति, बाड़मेर के मिडिया प्रभारी चन्द्रप्रकाश छाजेड़ ने बताया कि खरतरगच्छ समुदाय के स्थापना के 1000 वर्ष के उपलक्ष में खरतरगच्छ सहस्त्राब्दी महोत्सव आगामी वर्ष 2023 में तीर्थाधिराज शत्रुंजय महातीर्थ पर मनाया जायेगा। खरतरगच्छ सहस्त्राब्छी वर्ष निमित  2023 में परम पूज्य खरतरगच्छाचार्य श्री जिनपीयूषसागर सूरिश्वरजी म.सा. की पावन निश्रा एवं शताधिक साधु-साध्वी भगवंतों के पावन सान्निध्य में शत्रुंजय तीर्थ पर चातुर्मास, उपधान तप, नव्वाणु यात्रा व 28 से 30 दिसम्बर तक खरतरगच्छ सहस्त्राब्दी महोत्सव का आयोजन किया जायेगा। 

अखिल भारतीय खरतरगच्छ सहस्त्राब्दी महोत्सव समिति के सदस्य सुपारसचंद गोलच्छा, अभय सेठिया, विजय संचेती, पवन पारख ने बाड़मेर नगर में पधारकर बाड़मेर में विराजमान साधु-साध्वी भगवतों को आगामी चातुर्मास शत्रुंजय तीर्थ पर करने की विनंती की तथा आगामी 22 फरवरी 2023 से प.पू. मुनि श्री महेन्द्रसागरजी म.सा., मुनि श्री मनीषसागरजी म.सा. आदि साधु-साध्वी भगवतों की पावन निश्रा में गिरनार महातीर्थ पर आयोजित होने वाली नव्वाणु यात्रा में सम्मलित होने का भी निवेदन किया गया।