भगवा झंडे के नीचे फहराया तिरंगा, विश्व हिंदू परिषद ने शिकायत के बाद सही किया, मांगी माफी

उरई/जालौन। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा हर घर तिरंगा फहराने का लक्ष्य रखा गया है। मगर अब तिरंगे झंडे का अपमान होने लगा है। ऐसा नजारा जालौन के कालपी नगर में देखने को मिला। जहां खुलेआम तिरंगे का अपमान किया जा रहा है। कालपी नगर के विश्व हिंदू परिषद के अध्यक्ष द्वारा खुलेआम तिरंगे झंडे के ऊपर विश्व हिंदू परिषद का झंडा लगाकर अपमान किया जा रहा है। यह झंडा उनकी क्लीनिक के ऊपर लगा है। जो सोशल मीडिया में जमकर वायरल हो रहा है। 

तिरंगे की अपमान का मामला कालपी कोतवाली क्षेत्र के रामगंज इलाके का है। यहां के रहने वाले विश्व हिंदू परिषद के नगर अध्यक्ष डॉ सुरेश कुमार प्रजापति ने तिरंगे का अपमान करते हुए तिरंगे के ऊपर विश्व हिंदू परिषद का झंडा लगा दिया। जो उनके क्लीनिक के ऊपर लगा है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आजादी के अमृत महोत्सव के तहत 13 से 15 अगस्त तक हर घर तिरंगा अभियान की शुरुआत की है। पीएम की अपील पर हर घर तिरंगा अभियान के तहत लोग अपने घरों में तिरंगा लगा रहे हैं।

 मगर कुछ लोग तिरंगे का अपमान करने से बाज नहीं आ रहे हैं। कालपी नगर में तिरंगे का खुलेआम अपमान किया जा रहा है। यहां पर विश्व हिंदू परिषद के नगर अध्यक्ष डॉक्टर सुरेश कुमार प्रजापति ने तिरंगे का अपमान करते हुए तिरंगे के ऊपर विश्व हिंदू परिषद का झंडा लगा दिया। जिसका वीडियो सोशल मीडिया में तेजी से वायरल हो रहा है। संविधान और कानून में स्पष्ट दिया है कि तिरंगे के ऊपर किसी प्रकार का कोई भी झंडा नहीं लगाया जा सकता है। 

फ्लैग कोड ऑफ इंडिया 2002 नाम के कानून के तहत तिरंगा फहराने के लिए नियम भी निर्धारित किए गए हैं। इन नियमों का उल्लंघन करने वालों के खिलाफ कार्रवाई की जाती है। जिस तरीके से विश्व हिंदू परिषद के नगर अध्यक्ष ने तिरंगे का अपमान किया है। अब देखने वाली बात यह है कि या इनके खिलाफ फ्लैग कोड ऑफ इंडिया 2002 कानून के तहत कार्रवाई की जाती है कि नहीं। विश्व हिंदू परिषद के अध्यक्ष डॉ0 सुरेश प्रजापति से जब इस बारे में जानकारी ली तो उन्होंने बताया, वह पिछले कई दिनों से परिवार के साथ मुंबई में हैं। वह देर शाम को मुंबई से कालपी लौटेंगे। 

तिरंगे झंडे के ऊपर भगवा ध्वज गलती से बच्चों द्वारा फहराया गया है। उनके यहां काम करने वाली निशा नाम की लड़की ने इसे गलती से फहरा दिया है। जिसको सही करा दिया गया है। उनका कहना है कि जो गलती हुई है उसके लिए वह सभी से माफी भी मांगते हैं। वहीं इस मामले में कालपी कोतवाली के प्रभारी निरीक्षक जितेंद्र सिंह का कहना है कि बच्चों द्वारा की गई गलती के कारण कोई कार्रवाई नहीं की गई है। फिलहाल राष्ट्रीय ध्वज का सम्मान बरकरार रखने के लिए भगवा रंग के झंडे को उतरवाकर तिरंगा झंडा फहराया गया है।