सर्वाइकल दर्द से पाना चाहते हैं राहत तो इस्तेमाल करें ये घरेलू नुस्खे

डायबिटीज, मोटापा, थायराइड, यूरिक एसिड आज के समय में इन बीमारियों से हर-दूसरे में से एक व्यक्ति ग्रस्त है। खासकर सर्वाइकल में गर्दन में दर्द होने लगता है। कई बार तो पता भी नहीं चलता कि यह दर्द कब सर्वाइकल के दर्द में बदल जाता है। 

इस दर्द से राहत पाने के लिए व्यक्ति कई तरह की दवाइयों का सेवन भी करते हैं, लेकिन यह दवाइयां भी कई बार काम नहीं आती। आप सर्वाइकल के दर्द से राहत पाने के लिए कुछ घरेलू नुस्खों का इस्तेमाल कर सकते हैं। तो चलिए जानते हैं इनके बारे में....

हल्दी 

आप हल्दी का इस्तेमाल सर्वाइकल के दर्द से राहत पाने के लिए कर सकते हैं। हल्दी नैचुरल पेन किलर के रुप में काम करती है। आप एक गिलास में दूध से चम्मच हल्दी डालकर उबाल लें। इसके बाद दूध को ठंडा कर लें और उसमें शहद मिलाएं। इसे आप दिन में रोज दो बार पीएं। आपको गर्दन के दर्द से राहत मिल जाएगी। 

लहसुन

सर्वाइकल पेन से राहत पाने के लिए आप लहसुन का इस्तेमाल भी कर सकते हैं। लहसुन औषधीय गुणों से राहत दिलवाने में भी काफी मदद करता है। यह दर्द, सूजन और जलन भी कम करता है। आप सरसों के तेल में लहसुन डालकर पकाकर खा सकते हैं। इसके अलावा आप पका हुआ लहसुन भी खा सकते हैं। आप लहसुन से तैयार तेल से भी दर्द वाली जगह पर मालिश कर सकते हैं। धीरे-धीरे हाथों से मालिश करें। आपको दर्द से काफी राहत मिलेगी। 

सिकाई करें

आप दर्द वाली जगह की सिकाई कर सकते हैं। कई बार दर्द के कारण सूजन भी आ जाती है। सिकाई करने के लिए आप एक लीटर पानी में 1/2 चम्मच नमक डालकर उबालें। फिर पानी को गुनगुना करके बोतल में भर लें। बोतल में भरकर आप दर्द वाली जगह की सिकाई करें। दर्द से आपको काफी राहत मिलेगी। 

तिल 

आप तिल का इस्तेमाल दर्द से राहत पाने के लिए कर सकते हैं। तिल से बने तेल की आप दर्द वाली जगह पर मालिश करें। इस बात का ध्यान रखें कि तेल गुनगुना करके ही दर्द वाली जगह पर मालिश करें। इसके अलावा आप तिल भुनकर उसके गुड़ की चाशनी में तैयार किए गए लड्डू का सेवन भी कर सकते हैं। 

इन बातों का भी रखें ध्यान

. आप बैठने समय अपनी गर्दन को हमेशा सीधा रखें। 

. मुलायम गद्दे की जगह तख्त में आराम करें। 

. विटामिन-डी और कैल्शियम युक्त आहारों का सेवन करें। 

. स्मोकिंग, कैफीन, शराब जैसी चीजों से भी दूर रहें। 

. नियमित तौर पर गर्दन की एक्सरसाइज करें। 

. यदि आप लगातार काम कर रहे हैं तो भी गर्दन की सिकाई जरुर करें।