कृषि रक्षा रसायनों के सत्यापन के लिए 32 बिक्री केंद्रों पर आकस्मिक छापा

10 बिक्री केंद्रों से नमूने भरे, एक कीटनाशी विक्रेता को नोटिस

चित्रकूट। खरीफ सीजन में कृषकों को उचित मूल्य पर गुणवत्तायुक्त कृषि रक्षा रसायनों की उपलब्धता सुनिश्चित कराने, कालाबाजारी व जमाखोरी रोकने के लिए शासन के निर्देश पर जिलाधिकारी चित्रकूट द्वारा कृषि विभाग के कीटनाशी निरीक्षक व अन्य विभागों के अधिकारियों की संयुक्त टीम गठित कर जिले के कीटनाशी विक्रेताओं के 32 प्रतिष्ठानों पर छापे डाले गए, जिसमें एक विक्रेता को  कारण बताओ नोटिस जारी की गई। 

संदिग्ध कीटनाशी के स्टॉक से कुल 10 नमूने ग्रहीत किए गए हैं जिन्हें परीक्षण के लिए प्रयोगशाला भेजा जाएगा जिनके परिणाम प्राप्त होने पर कीटनाशी अधिनियम 1968 के तहत कार्यवाही की जाएगी। इस समय खरीफ फसलों में कीट व्याधि प्रबंधन का कार्य किया जा रहा है तथा विविध कृषि रक्षा रसायनों का किसानों द्वारा क्रय किया जा रहा है। 

किसानों को निर्धारित मूल्य पर गुणवत्तायुक्त कृषि रक्षा रसायनों की उपलब्धता सुनिश्चित कराने, कालाबाजारी व जमाखोरी रोकने के लिए शासन के निर्देश पर गठित जिला स्तरीय टीम द्वारा सभी चारों तहसीलों में  सघन छापेमारी की गई जिसमें कीटनाशी विक्रेताओं की दुकानों व गोदामों का निरीक्षण किया गया तथा  रसायनों के स्टॉक का सत्यापन किया गया। 

जिन दुकानों पर कमी पाई गई, उनको अभिलेख अद्यावधिक रखने की हिदायत दी गई, जबकि स्टॉक वितरण संबंधी अनियमितता व अन्य विसंगतियों पर एक कीटनाशी विक्रेता को कारण बताओ नोटिस जारी की गई। सभी विक्रेताओं को स्टॉक बिक्री पंजिका अद्यावधिक रखने, विक्रय किए गए रसायनों का कैश मेमो देने व पुराने कालातीत रसायनों का नियमानुसार निस्तारण करने के लिए निर्देशित किया गया |