दीपोत्सव पर अयोध्या में जलेंगे 14 लाख दीये

कुम्हारों में ज्यादा दीये तैयार करने की होड़, बड़े ऑर्डर की आस

अयोध्या। राम की नगरी अयोध्या के आसपास के गांवों में कुम्हारों के चाक इन दिनों बहुत तेजी से घूमने लगे हैं। महज दो महीनों बाद सरयू नदी के किनारों पर आयोजित होने वाले दीपोत्सव के लिए 14 लाख मिट्टी के दीये तैयार करने हैं। उत्तर प्रदेश सरकार हर साल दीपावली से एक दिन पहले आयोजित होने वाले दीपोत्सव समारोह को प्रायोजित करती है,इसमें पवित्र सरयू नदी के दोनों किनारों पर लाखों दीये जगमगाते हैं।

यह दृश्य बेहद भव्य और रमणीय होता है। अयोध्या में यह परंपरा प्रदेश की योगी आदित्यनाथ सरकार ने वर्ष 2017 में डाली थी और शुरुआत 51 हजार दीयों से हुई थी। 2019 में दीयों की संख्या बढ़कर चार लाख 10 हजार हो गई थी। 2020 में यह संख्या छह लाख थी और 2021 में यह नौ लाख से ज्यादा होकर एक नया विश्व रिकॉर्ड बना गई।इस बार 23 अक्टूबर को आयोजित होने वाले दीपोत्सव में 14 लाख दीये प्रज्ज्वलित करने का लक्ष्य है।

ऐसे में अयोध्या के आसपास के गांवों के कुम्हारों का काम बहुत बढ़ गया है और वे बहुत बड़े आर्डर मिलने की उम्मीद में दिन रात चाक घुमा रहे हैं। राजू नामक व्यक्ति की माने तो उसका कहना है कि पिछले साल सिर्फ 15-20 दिन पहले ही मिले 21 हजार दीयों के आर्डर को पूरा कर लिया था। रोजाना दीये बनाकर उन्हें स्टोर में रख रहे हैं।इस बार उम्मीद है कि हम 40-50 हजार दीये दे देंगे।उम्मीद है कि इस बार हमें बेहतर दाम भी मिलेंगे।