पत्रकार पर दर्ज केस वापस लेने की मांग सौंपा ज्ञापन

गोण्डा। पत्रकार उत्पीड़न की घटनाओं जिसमे  जिले के नवाबगंज के पत्रकार पर प्रधान प्रतिनिधि द्वारा दर्ज कराई गई केस को लेकर शुक्रवार को एन यू जे इंडिया से संबद्ध यूपी जर्नलिस्ट्स एसोसियेशन उपजा का एक प्रतिनिधिमंडल देवीपाटन मंडल के अपर आयुक्त से मिला। प्रतिनिधि मंडल ने उन्हे राज्यपाल को संबोधित एक पांच सूत्रीय मांग पत्र भी सौंपा जिसमें नवाबगंज क्षेत्र के  कटरा भोग चन्द के प्रधान  द्वारा कराए गए मानक विहीन कार्यों का निष्पक्ष जांच करने एवम नवाबगंज के पत्रकार मौजी राम यादव पर प्रधान प्रतिनिधि द्वारा दर्ज कराये गये मामले को  दुर्भावना से ग्रसित होने के कारण उसे वापस लेने की मांग की।

प्रतिनिधिमंडल का नेतृत्व कर रहे उपजा के प्रदेश अध्यक्ष जी0 सी0 श्रीवास्तव एवं पार्षद  राकेश सिंह ने कहा कि पत्रकार सरकार की महत्वपूर्ण योजनाओं में जिम्मेदार कर्मियों की कमियों को उजागर करते हैं। इसी वजह से उन्हें अक्सर परेशान करने के लिए साजिश के तहत उल्टे सीधे केस दर्ज करा दिया जाता है जिसके कारण ही उनकी कमियों को उजागर करने वाले पत्रकारो को कोपभाजन का शिकार बनना पड़ता है। सोनभद्र में घटित घटना जंहा पुलिसिया शिथ्िलता की कहानी बंया कर रही वही गोण्डा जिले में पत्रकार को जान से मार डालने की धमकी व पत्रकार उत्पीड़न करने वाला खुलेआम घूम रहा । 

यही नहीं पीड़ित पत्रकार के परिवारों पर भी केश दर्ज करने वाला कोतवाल मजे से मलाई काट रहा। पत्रकार संध के नेताओ ने कोतवाल को हटाकर न्याय दिलाने की मांग की है। वहीं जिले के लगभग चार दर्जन से अधिक पत्रकारों ने अपर पुलिस अधीक्षक शिवराज से मिलकर वस्तुस्थित से अवगत कराते हुए आरोपी प्रधान प्रतिनिधि को अविलंब गिरफतार करने की मांग की । पत्रकार संघ के अध्यक्ष रईस अहमद एवं महामंत्री जगपाल सिंह ने उपपुलिस महानिरीक्षक से अविलंब कार्ररवाई किये जाने की मांग करते हुए साफ लहजे में कहा कि यदि लीपापोती की गई तो उपजा बड़ा आंदोलन करने को बाध्य होगी।

हांलाकि उप महानिरीक्षक ने मामले की जांच कर तीन दिन में उचित कार्रवाई का आश्वासन दिया है। ज्ञापन देने गये दर्जनो पत्रकारों ने आक्रोश व्यक्त करते हुए पत्रकार पर दर्ज प्राथमिकी तत्काल वापस लेने की मांग की है। प्रतिनिधिमंडल में पत्रकार अतुल श्रीवास्तव, प्रमोद नन्दन किशन राजपाल मुश्ताक अहमद, मनोज साहू, शैलेन्द्र कौशल श्रीवास्तव, जिताउ राम मौर्य आदि दर्जनों पत्रकार शामिल थे।