रवि शास्त्री ने भारत की घरेलू सीरीज के दौरान ऋषभ पंत के साथ हुई बातचीत किया खुलासा

टीम इंडिया के हेड कोच रवि शास्त्री ने पिछले साल इंग्लैंड के खिलाफ भारत की घरेलू सीरीज के दौरान ऋषभ पंत के साथ हुई बातचीत का खुलासा किया, जिसने भारत के विकेटकीपर की बल्लेबाजी को एक और आयाम दिया। शास्त्री, जो भारतीय क्रिकेट टीम के मुख्य कोच थे, जब पंत ने ऑस्ट्रेलिया में उन दो ऐतिहासिक पारियों को खेला और फिर घर पर इंग्लैंड के खिलाफ दमदार खेल दिखाया।

पंत पिछले कुछ सालों में पूरी तरह से एक अलग तरह के टेस्ट क्रिकेटर रहे हैं, वे ऐसे काम कर रहे हैं जिनकी लोग एक टेस्ट खिलाड़ी से उम्मीद नहीं करते हैं। पंत का निडर दृष्टिकोण, जिसमें विश्व स्तरीय गेंदबाजों की धज्जियां उड़ाना शामिल है, रातोंरात विकसित नहीं हुआ है और न ही पंत हमेशा से ऐसे रहे हैं। वास्तव में यह रवि शास्त्री ही थे, जिन्होंने पंत को ताबड़तोड़ पंत बनाने का काम किया।  

स्काई स्पोर्ट्स पर रवि शास्त्री ने कहा, "पिछले साल मैं पंत से बात कर रहा था और मैंने उनसे कहा कि मैं आपको हर बार उसी अंदाज में विकेट फेंकते हुए देखकर बोर हो रहा हूं, क्या आप भी बोर नहीं होते? तो क्यों न आप कुछ अलग करने की कोशिश करें, कुछ और बेरहम शॉट...जैसे रिवर्स स्वीप हो सकता है? और फिर मैंने उसकी आँखों में चमक देखी। एक खिलाड़ी की क्षमता का समर्थन करना बहुत महत्वपूर्ण है।" 

इस बातचीत के कुछ ही समय बाद ऋषभ पंत ने वो शॉट खेलने शुरू कर दिए। शास्त्री ने कहा कि पंत ने अहमदाबाद टेस्ट में दूसरी नई गेंद के खिलाफ जेम्स एंडरसन को रिवर्स स्वीप किया और उसके बाद सफेद गेंद की सीरीज में जोफ्रा आर्चर को भी बहुत तेज वही शॉट मारा। शास्त्री ने कहा, "उन्होंने जैक लीच को दो बार रिवर्स स्वीप मारा। अगले टेस्ट में उन्होंने एंडरसन के खिलाफ ऐसा किया। सीमित ओवरों की सीरीज में जोफ्रा आर्चर को रिवर्स स्वीप मारा।" 

पंत की बल्लेबाजी में एक बार फिर वही रवैया दिखाई दे रहा था, जब उन्होंने शुक्रवार को बर्मिंघम में सीरीज के निर्णायक मुकाबले में इंग्लैंड के खिलाफ अपना पांचवां टेस्ट शतक जड़ा। पंत ने सिर्फ 89 गेंदों पर शतक बनाया, जो एक भारतीय विकेटकीपर द्वारा सबसे तेज टेस्ट शतक है। पंत की इस पारी ने भारत को एक कमांडिंग पोजिशन में ला दिया, क्योंकि भारत के 98 रन पर 5 विकेट गिर गए थे। ऐसे में पंत ने रविंद्र जडेजा के साथ 200 रन से ज्यादा की साझेदारी की।