'छटा तेरी तीन लोक से न्यारी है गोवर्धन महाराज', गोवर्धन में उमड़ा श्रद्धालुओं का जनसैलाब

( उत्तम शर्मा ब्यूरो ) 

मथुरा/गोवर्धन। गोवर्धन में चल रहे मुड़िया पुनो मेले में मंगलवार को श्रद्धालुओं का जनसैलाब उमड़ पड़ा। गिरिराज नगरी की बनी अद्भुत मनोहारी शोभा का वर्णन करना मुश्किल है। स्वयं देवता भी इस के लिए लालायित है और दर्शन कर रहे हैं। पूरी सप्तकोसीय परिक्रमा के अलावा सभी मार्गों पर आधा दर्जन किलोमीटर तक श्रद्धालु ही श्रद्धालु नजर आ रहे थे। परिक्रमा मार्ग में जिधर देखो दूर तक नरमुंड ही नरमुंड दिखाई दिए। 

श्रद्धालु भक्तजन मदमस्त होकर छटा तेरी तीन लोक से न्यारी है गोवर्धन महाराज , तू एक बार आजा गिरिराज की तलहटी आदि भजन कीर्तन गाते हुए मस्ती के साथ परिक्रमा कर रहे हैं। प्रत्येक व्यक्ति अपने आराध्य के दर्शन के लिए लालायित है। परिक्रमा मार्ग व गोवर्धन गिर्राज महाराज की जयकारों से गुंजायमान हो उठा है। प्रतिबंध के बाद भी पुलिस प्रशासन की लापरवाही से लोग दंडोति देते नजर आए।इस दौरान मध्य प्रदेश राजस्थान दिल्ली पंजाब बिहार आदि प्रांतों के श्रद्धालुओं के साथ विदेशी श्रद्धालु भी भक्ति के रंग में रंगी दिखाई दिए।

 श्रद्धालुओं का जोश इतना है कि बसों व ट्रेनों में ऊपर बैठकर भक्तजन आ रहे हैं। वही परिक्रमा मार्ग में लगे भंडारों व प्याऊओ पर महिला व पुरुषों को नचाकर भीड़ को एकत्रित किया जा रहा है। इससे मार्ग जाम हो जाता है। पब्लिक का रुकना ठीक नहीं है। ड्यूटी पर तैनात पुलिस कर्मी ड्यूटी भी मुस्तैदी से नहीं कर रहे हैं। जेबकतरों ने भी मेले में जमकर लोगों की सफाई की । 

श्रद्धालुओं ने मानसी गंगा में लगे फुब्बारों पर स्नान कर मुकुट मुखारविंद मानसी गंगा मंदिर, दानघाटी मंदिर, ठाकुर हरदेव जी मंदिर ,मनसा देवी मंदिर, हर गोकुल मंदिर , जतीपुरा मुखारविंद के दर्शन कर पुण्य लाभ कमाया। परिक्रमा में आए श्रद्धालु भक्तजनों की सेवा भी खूब की जा रही है। जगह जगह श्रद्धालुओं की सुविधा समाज सेवियों व सेवकों ने खाने-पीने के भंडारे लगाए हुए हैं। 

चिकित्सा शिविर लगाए गए हैं।मेले को सफल संपन्न कराने के लिए डीएम नवनीत चहल एसएसपी अभिषेक यादव अपने अधीनस्थों कर्मचारियों के साथ मोर्चा संभालते हुए नजर आए। एडीजी कमिश्नर मेले की व्यवस्थाओं का निरीक्षण कर चुके हैं। स्वयं मुख्यमंत्री जी भी मेले की व्यवस्थाओं पर नजर रखे हुए हैं। इससे पूर्व सोमवार को हुई बरसात ने जिला प्रशासन व नगर पंचायतों की व्यवस्थाओं की कलई खोलकर रख दी। श्रद्धालुओं को भारी पानी से होकर गुजरना पड़ा।