तीखा तीर

हनुमान लला हैं  सबके रखवारे 

बुराई  बस  ही  थे  लंका  जारे 

चूर  नशा   सत्ता  का  कर डारे 

शिव सेना का ही   बाग ऊजारे 

     वीरेन्द्र तोमर