सुहानें मौसम

मौसम हो गई हैं अब सुहानें ,

                            पंछी गीत गा रही हैं नए तराने ।

प्रकृति भी ओढ़ ली हैं चादर हरियाली ,

                        पर्वत पठार बन गए हैं अब दिवानें ।।

मंद हवा की सुमधुर झरोखों से,

                           तन-मन को प्रफ्फुलित कर दिया।

और बारिश की रिमझिम फुहारों से , 

                         धरती भी बन गई अब तो मस्ताने ।।

नदी-नालों की कलरव संग फूलों पर,

                     मंडराती तितली झर-झर बहती झरना।

देख नज़ारा मन हमारा बस,

                     कहता हैं? मौसम हो गई अब सुहानें ।।


रचनाकार- 

डोमेन्द्र नेताम (डोमू )

मुण्डाटोला डौण्डीलोहारा 

 जिला-बालोद (छ.ग.)

मो. 9669360301