अग्निपथ स्कीम को लेकर राहुल गांधी ने PM मोदी पर कसा तंज, कहा- देश के युवाओं की बात माननी पड़ेगी और इस स्कीम को वापस लेना पड़ेगा

नई दिल्ली : कांग्रेस सांसद राहुल गांधी ने अग्निपथ स्कीम को लेकर मोदी सरकार पर तीखा तंज कसा है। उन्होंने ट्वीट कर कहा कि 8 सालों से लगातार भाजपा सरकार ने ‘जय जवान, जय किसान' के मूल्यों का अपमान किया है। मैंने पहले भी कहा था कि प्रधानमंत्री जी को काले कृषि कानून वापस लेने पड़ेंगे। ठीक उसी तरह उन्हें ‘माफ़ीवीर' बनकर देश के युवाओं की बात माननी पड़ेगी और 'अग्निपथ' को वापस लेना ही पड़ेगा। राहुल गांधी ने अग्निवीर भर्ती योजना को लेकल पीएम नरेंद्र मोदी पर माफीवीर वाला तंज कसा है। वह लगातार अग्निपथ स्कीम का विरोध कर रहे हैं और इसे युवाओं के साथ अन्याय बता रहे हैं।

इससे पहले राहुल गांधी ने गुरुवार को इस मसले पर ट्वीट कर सरकार पर हमला बोला था। उन्होंने कहा था कि अग्निपथ स्कीम को नौजवानों ने नकार दिया है। कृषि कानूनों को किसानों ने नकारा था। नोटबंदी को अर्थशास्त्रियों ने खारिज कर दिया था। इसके अलावा GST को व्यापारियों ने नकारा था। राहुल गांधी ने कहा था, 'देश की जनता क्या चाहती है, ये बात प्रधानमंत्री नहीं समझते क्यूंकि उन्हें अपने ‘मित्रों’ की आवाज़ के अलावा कुछ सुनाई नहीं देता।' राहुल गांधी के अलावा प्रियंका गांधी भी इस स्कीम को लेकर हमलावर हैं और सरकार पर निशाना साध रही हैं।

बता दें कि इसी सप्ताह मंगलवार को रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने इस स्कीम का ऐलान किया था। उसके अगले दिन से ही इस योजना का विरोध जारी है। खासतौर पर बिहार और यूपी जैसे राज्यों में इसका तीव्र विरोध हो रहा है। अब तक 10 से ज्यादा राज्यों में इस भर्ती योजना का विरोध फैल चुका है। इस योजना के तहत 17.5 साल से 21 तक के युवाओं को अग्निवीर के तौर पर सेना में भर्ती किया जाएगा। इन्हें 4 साल के लिए नियुक्ति मिलेगी। इसके बाद 25 फीसदी लोगों को आगे की सेवा के लिए चुना जाएगा और 75 फीसदी लोगों को सर्टिफिकेट और 11 लाख रुपये के पैकेज के साथ विदा किया जाएगा। इन लोगों को असम राइफल्स और अर्ध सैनिक बलों की नौकरियों में आरक्षण दिया जाएगा। इसके अलावा वहां भर्ती की तय आयु में भी 3  साल की छूट दी जाएगी।