IND vs IRE Photos: पांड्या ने टीम की परंपरा को रखा बरकरार, उमरान को दिया खास तोहफा

भारतीय टीम ने हार्दिक पांड्या की कप्तानी में अपनी पहली टी20 सीरीज जीत ली है। उसने आयरलैंड के खिलाफ मंगलवार (28 जून) को दूसरे टी20 में चार रनों से जीत हासिल की। टीम इंडिया ने पहले बल्लेबाजी करते हुए 225 रन बनाए। जवाब में आयरलैंड की टीम ने 221 रन बनाकर भारतीय खिलाड़ियों को हैरान कर दिया। इस मैच के दौरान कई ऐसे वाकये देखने को मिले जिससे प्रशंसक हैरान रह गए।

कप्तान हार्दिक पांड्या ने टीम की परंपरा को बरकरार रखा। उन्होंने उमरान मलिक को खास तोहफा दिया। दरअसल, रोहित शर्मा ने टीम इंडिया में एक परंपरा शुरू की थी। उन्होंने सीरीज जीतने के बाद टीम के सबसे नए खिलाड़ी को ट्रॉफी उठाने का मौका दिया। हार्दिक ने भी वैसा ही किया। उन्होंने उमरान मलिक को ट्रॉफी दी।

मैच का आखिरी ओवर उमरान मलिक ने किया। उस ओवर में 17 रन विपक्षी की टीम बनाने थे। ऐसे मौके पर युवा गेंदबाज पर विश्वास जताने के लिए हार्दिक की तारीफ हो रही है। मलिक ने चार ओवर में 42 रन जरूर दिए, लेकिन आखिरी ओवर में शानदार गेंदबाजी की।

हार्दिक ने उमरान की तारीफ भी की। उन्होंने उमरान से आखिरी अहम ओवर में गेंदबाजी करने की वजह बताई। हार्दिक ने कहा, ''मैंने उमरान का समर्थन किया। उसके पास गति है। ऐसी तेजी के सामने 18 रन बनाना हमेशा मुश्किल होता है।''

टीम इंडिया के लिए दीपक हुड्डा और संजू सैमसन ने बेहतरीन पारी खेली। हुड्डा ने टी-20 अंतरराष्ट्रीय करियर का पहला शतक लगाया। उन्होंने 57 गेंदों पर नौ चौके और छह छक्के की मदद से 104 रन की पारी खेली। वहीं, सैमसन ने टी-20 अंतरराष्ट्रीय करियर का पहला अर्धशतक लगाया। सैमसन ने 42 गेंदों पर नौ चौके और चार छक्के की मदद से 77 रन की पारी खेली।

दोनों ने दूसरे विकेट के लिए 87 गेंदों पर 176 रन की साझेदारी निभाई। यह भारत की ओर से किसी भी विकेट के लिए टी-20 में सबसे बड़ी साझेदारी है। इन दोनों ने रोहित शर्मा और केएल राहुल के पांच साल पुराने रिकॉर्ड को तोड़ दिया। रोहित और राहुल ने 2017 में इंदौर में पहले विकेट के लिए 165 रन की साझेदारी निभाई थी।

दीपक हुड्डा ने संजू सैमसन को बचपन का दोस्त बताया। उन्होंने कहा- मैं और संजू बचपन से दोस्त हैं। हमदोनों ने साथ में अंडर-19 वर्ल्ड कप में खेला था। मैं उसके लिए काफी खुश हूं।

भारत के लिए भुवनेश्वर कुमार ने मैच को पलटा। उन्होंने 18वें ओवर में सिर्फ सात रन दिए। भुवनेश्वर की पहली गेंद वाइड हुई। अगली गेंद पर उन्होंने यॉर्कर डाला और टेक्टर उसे बाउंड्री के बाहर भेजना चाहते थे। उन्होंने लंबा शॉट लगाया, लेकिन बाउंड्री पर दीपक हुड्डा के हाथों लपके गए। आयरलैंड की सबसे मजबूत साझेदारी टूट गई। यहां से टीम इंडिया को वापसी का मौका मिल गया।

भारत के लिए मैच में हर्षल पटेल सबसे महंगे गेंदबाज रहे। उन्होंने चार ओवर में 54 रन लुटा दिए। इस दौरान उनकी इकोनॉमी 13.50 की रही। उन्हें एक सफलता जरूर मिली, लेकिन हर्षल लय में नहीं दिखे।