यूपी में पढ़ाई जाए मराठी भाषा, महाराष्ट्र के भाजपा नेता कृपाशंकर सिंह ने योगी को लिखा पत्र

लखनऊ। महाराष्ट्र के भाजपा नेता कृपाशंकर सिंह ने उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को पत्र लिखा है। उन्होंने उत्तर प्रदेश में सेकेंडरी और हायर सेकेंडरी स्कूलों में छात्रों को मराठी को एक वैकल्पिक भाषा के रूप में पढ़ाने के लिए कहा है। कृपाशंकर सिंह ने लिखा है कि यह छात्रों को महाराष्ट्र में बेहतर नौकरी पाने में मदद कर सकता है। कृपाशंकर सिंह ने पत्र में कहा कि यदि मराठी यूपी की स्वैच्छिक भाषा होगी तो यूपी के विद्यार्थियों को महाराष्ट्र में बेहतर रोजगार हासिल करने में मदद मिलेगी। 

कृपाशंकर सिंह यूपी के जौनपुर के रहने वाले हैं। वे 2004 में महाराष्ट्र की कांग्रेस सरकार में गृह राज्यमंत्री भी रह चुके हैं। कृपाशंकर सिंह 50 सालों से मुंबई में रह रहे हैं। उनका मानना है कि महाराष्ट्र सरकार और निगमों में भी कई नौकरियां निकलती हैं, जिनमें मराठी भाषा का ज्ञान जरूरी होता है। ऐसे में यूपी के स्कूलों में अगर मराठी को वैकल्पिक विषय के रूप में पढाया जाता है तो इन छात्रों को यहां बेहतर नौकरी मिल सकती है। सूत्रों की माने तो सीएम योगी का दफ्तर इस सुझाव से सैद्धांतिक रूप से सहमत हैं।

 इसे पायलट प्रोजेक्ट के तौर पर वाराणसी में अपनाने पर विचार कर रहा है। कृपाशंकर सिंह ने 2019 में कश्मीर से अनुच्छेद 370 खत्म करने का समर्थन करते हुए कांग्रेस छोड़ दी थी। इसके बाद वे 2021 में भाजपा में शामिल हो गए थे। सिंह ने मुंबई में अंडरवर्ल्ड के सफाए के बड़े प्रयास किए थे। उन्होंने मराठी संस्कृति को अपना लिया है। वे फर्राटे से मराठी बोलते हैं और उनका मानना है कि जो भी मुंबई आता है उसे मराठी तौर तरीके अपनाने चाहिए।