बरसाती मौसम में हो सकती है कान में इंफेक्शन, शुरुआती लक्षणों में ही कर लें देखभाल

बारिश के मौसम आ चुका है। इस मौसम में कई तरह के इंफेक्शन फैलने का खतरा होता है। इम्यूनिटी कमजोर होने के कारण कई तरह के वायरल इंफेक्शन जैसे खांसी, जुकाम, सर्दी, बुखार जैसी समस्याएं हो सकती हैं। एक्सपर्ट्स के अनुसार, इस मौसम में स्किन, आंख और कानों से जुड़ी समस्याएं भी होती हैं। इन समस्याओं से बचने के लिए जरुरी है कि आप सावधानी बरतें और इस मौसम में  अपना खास ख्याल रखें। तो चलिए बताते हैं कि आप बारिश के मौसम में कैसे खुद को स्वस्थ रख सकते हैं। 

कान में इंफेक्शन के लक्षण 

. कान में बहुत दर्द महसूस होना। 

.  कान के बाहरी हिस्से में लालपन होना। 

. कान के अंदर बहुत ज्यादा खुजली का महसूस होना। 

. ठीक तरह से आवाज न सुनाई दे पाना। 

. कान में हर समय भारीपन का महसूस होना। 

. कान में सफेद, पीली या फिर किसी और रंग की पस का निकलना । 

इन बातों का रखें ध्यान 

नहाते समय लगाएं रुई 

नहाते समय कान में रुई जरुर लगाएं। इससे कान के अंदर पानी नहीं जाएगा। कानों को ज्यादा साफ भी करें, क्योंकि इससे कान की त्वचा में चोट लगने का खतरा होता है और बाद में संक्रमण फैलने की आशंकाएं भी बढ़ जाती हैं। 

बारिश में भीगने से बचाएं कान 

बरसात के मौसम में बारिश में भीगने के कारण वातावरण में नमी होने के कारण जुकाम और गला भी खराब हो सकता है। वायरल इंफेक्शन का असर कानों पर भी हो सकता है। कानों में दर्द और इंफेक्शन हो सकता है।  

ठंडे पदार्थ न खाएं 

बरसात के मौसम में ठंडे पदार्थों  का सेवन भी नहीं करना चाहिए। जुकाम या गला खराब होने पर शीघ्र ही बीमारी का इलाज करवाएं, नहीं तो कानों में दिक्कत हो सकती है। 

दूसरों के एयरफोन इस्तेमाल न करें 

आजकल कई लोग कानों में एयरफोन लगाकर गाने सुनते हैं या फिर मोबाइल पर भी बात करते हैं। लेकिन यदि आपको भी ऐसी आदत है तो शुरुआत में ही सावधान हो जाएं। किसी और के साथ अपने एयरफोन शेयर न करें और न ही किसी के एयरफोन इस्तेमाल करें। शोध में इस बात का खुलासा हुआ है कि यदि आप किसी के एयरफोन इस्तेमाल करते हैं तो आपको स्वास्थ्य संबंधी समस्याएं हो सकती हैं। 

ऐसे रखें कानों का ख्याल 

. इस मौसम में कानों को हमेशा सूखा रखें। 

. कान साफ करने के लिए किसी कॉटन के कपड़े का इस्तेमाल ही करें। 

. कानों में हर समय ईयरफोन न लगाकर रखें। 

. ईयर बड का भी इस्तेमाल न करें। इसके कारण आपके कानों में इंफेक्शन हो सकता है। 

. अपने ईयरफोन को समय-समय पर डिसइंफेक्ट करते रहें, ताकि किसी भी तरह का इंफेक्शन न हो। 

. गले का भी ध्यान रखें। गले में खराश और इंफेक्शन के कारण भी कानों में इंफेक्शन का खतरा बढ़ सकता है।