जीवन इक रैन बसेरा है

जीवन  इक  रैन  बसेरा  है ,जिसमें  सुख - दुख  का  डेरा  है

कहीं खुशियाँ खिलखिल हँसती हैं,कहीं गम का घोरअंधेरा है


                    हर पल बदलता रूप है ये ,

                    कभी छाँव कभी धूप है ये।

                    चालक इंसां के तन मन का,

                    रखता अपने अनुरूप है ये ।

ॠतुओं की भांति अलग - अलग, आता ये बदलकर चेहरा है

कहीं खुशियाँ खिलखिल हँसती हैं,कहीं गम का घोरअंधेरा है


                   कभी खुशियों का सुर्य चमके,

                   हृदय  में  प्रेम , प्यार  पनपे ।

                   अनुराग ख्वाब छेड़े रुक-रुक,

                   हँस-हँसके फूल खिलें मन के।

नहीं  समझ  सका कोई इसको , गिरगिट  का  तात चचेरा है

कहीं खुशियाँ खिलखिल हँसती हैं,कहीं गम का घोरअंधेरा है


                   कहीं अपनों से बिछड़ा देता ,

                   कहीं औरों से पिछड़ा देता ।

                   कभी असफलता  देकर  ये ,

                   बेहद  मन  को  इतरा  देता ।

लोहे  से  जब   हालात  बनें  ,  बनता  उस   वक्त  ठठेरा  है 

कहीं खुशियाँ खिलखिल हँसती हैं,कहीं गम का घोरअंधेरा है


                     कहीं  लहर  समुद्र सी  रखता,

                    स्वभाव फलों की ज्यों चखता।

                    लालच  मन  में सुख पाने की  ,

                    ना  कोसों चल मानव थकता ।

कहने  को   क्षणभंगुर   है   ये ,  नहीं  तेरा  है  नहीं  मेरा  है

कहीं खुशियाँ खिलखिल हँसती हैं,कहीं गम का घोरअंधेरा है


नफे सिंह योगी मालड़ा ©

महेंद्रगढ़ हरियाणा