डीएम डॉ. दिनेश चन्द्र के प्रयास से बच्चे के चेहरे पर आई मुस्कान

साईकिल का बदलवाया ट्यूब, मन लगकार पढ़ने की दी नसीहत

बहराइच : उर्दू अदब के कालजयी शायर निदा फाज़ली की यह पंक्तियॉ ‘‘घर से मस्जिद है बहुत दूर चलो यूॅ कर लें, किसी रोते हुए बच्चे को हॅसाया जाए’’ उस वक्त चरितार्थ हो उठी जब शुक्रवार को देर शाम पैदल गश्त के दौरान छावनी चौराहा के निकट पहुॅचे जिलाधिकारी डॉ. दिनेश चन्द्र व वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक केशव कुमार चौधरी ने देखा कि एक साईकिल दुकानदार और बच्चे के बीच किसी बात को लेकर वाद-विवाद चल रहा है। पूछ-ताछ करने पर पता चला कि बच्चे ने लगभग एक सप्ताह पूर्व दुकानदार से साईकिल क्रय की थी परन्तु साईकिल के ट्यूब में कोई समस्या थी, जिसे बदलने के लिए दुकानदार तैयार नहीं हो रहा था। इस बात से रंजीदा बच्चे का चेहरा देखकर जिलाधिकारी डॉ. चन्द्र ने अपनी जेब से दुकानदार को भुगतान कर बच्चे की साईकिल का ट्यूब बदलवा दिया। इस अवसर पर डीएम ने बच्चें का ताकीद भी की कि मियॉ मन लगाकर पढ़ाई भी करना।