तुम हो तो रंगीन जमाना लगता है।

 साथ तेरा पा मन हर्षाया है,

जीवन में  प्यार तुझीसे आया है।

तुम हो तो रंगीन जमाना लगता है,

साथ तेरे हर मौसम सुहाना लगता है।


साथ तेरा पा किस्मत पर इतराई हूं,

फूलों की सुगंध , बहार बनकर आई हूंँ।

नैनो का हर सपना सुहाना लगता है,

तुम हो तो रंगीन जमाना लगता है।


खुश हूं तुमको पाकर  जीवन में,

खुशियों का हसीन जमाना लगता है।

एक पल तुझ बिन चैन मिले ना,

तुम हो तो रंगीन जमाना लगता है।


दूरी तुम्हारी सही जाए ना,

एक पल भी चैन आए ना।

स्पर्श तुम्हारा दिल को धड़काता,

तुम हो तो रंगीन जमाना लगता है।


भाव मेरे सारे जगा दिए प्रिय,

प्रेम की बारिश रिमझिम बरसे।

मिलन हो  दिल को करार मिलता है,

तुम हो तो रंगीन जमाना लगता है।


जीवन का सार प्रेम प्रिय,

जीना तुम बिन बेकार प्रिय।

साथ तुम्हारा मधुरिम लगता,

तुम हो तो रंगीन जमाना लगता है।


रूठना कभी नहीं प्रिय तुम मुझसे,

तुम ही तो जीवन का आधार प्रिय।

जीवन के सब सिंगार तुम्ही से

तुम हो तो रंगीन जमाना लगता है।


मेरे जीवन के सारे प्रिय,

सुन लो मेरी हर बात प्रिय।

हृदय में प्रीत तुम्हारी पलती,

तुम हो तो रंगीन जमाना लगता है।


                रचनाकार ✍️

                मधु अरोरा