रिद्धिमान साहा : जब आपकी ईमानदारी पर सवाल उठाया जाता है तो बहुत ही ज्यादा दुख होता है

नई दिल्ली। भारतीय क्रिकेट टीम के अनुभवी विकेटकीपर रिद्धिमान साहा पिछले दिनों विवादों में घिरे नजर आए। एक पत्रकार द्वारा उनको भेजे गए धमकी भरे मैसेज की बात उन्होंने सामने रखी थी जिसके बाद बीसीसीआइ ने इस मामले में जांच की। जांच के बाद बोर्ड ने पत्रकार को साहा को धमकाने का दोषी पाया और उनपर दो साल का प्रतिबंध लगाया। साहा ने इस मामले के बाद अब बंगाल रणजी टीम को छोड़ने का फैसला लिया है। उन्होंने इस बात को साफ किया है कि वह राज्य की तरफ से नहीं खेलेंगे। 

साहा जिन्होंने साल 2007 में बंगाल की तरफ से फर्स्टक्लास डेब्यू किया था उन्होंने कहा कि 15 साल तक इस राज्य के लिए खेलने के बाद ऐसा फैसला करना बेहद दुख पहुंचाने वाला था। दुनिया के बेहतरीन विकेटकीपर में गिने जाने वाले साहा ने कहा कि जब आपकी ईमानदारी पर सवाल उठाया जाता है तो बहुत ही ज्यादा दुख पहुंचता है।

साहा बोले, "मेरे लिए भी यह बहुत ही दुखी करने वाला एहसास था कि बंगाल की तरफ से इतने साल खेलने के बाद मुझे ऐसे किसी चीज से होकर गुजरना पड़ा। यह बेहद चोट पहुंचाने वाला होता है कि लोग इस तरह के कमेंट करते हैं और आपकी ईमानदारी पर सवाल उठाते हैं। एक खिलाड़ी के दौर पर मैंने इससे पहले कभी भी ऐसी किसी चीज का सामना नहीं किया था लेकिन अब जबकि यह हो गया है तो मुझे आगे बढ़ना ही होगा।"

"अब जबकि मैंने अपना मन बना लिया है कि बंगाल की तरफ से नहीं खेलूंगा, मैंने फोन पर क्रिकेट एसोसिएशन आफ बंगाल के अध्यक्ष अविशेक डालमिया को बताया दिया है। लेकिन मैं उनसे खुद जाकर मिलुंगा और इस प्रक्रिया का पूरा करुंगा।"