लोकतंत्र में पत्रकारों की अहम भूमिका: शीतल टण्डन

जिला व्यापार मण्डल द्वारा हिन्दी पत्रकारिता दिवस पर विशेष बैठक का आयोजन

सहारनपुर । उ.प्र. उद्योग व्यापार मण्डल की जिला इकाई द्वारा प्रत्येक वर्ष 30 मई को  मनाये जाने वाले हिन्दी पत्रकारिता दिवस के अवसर पर गत दिवस देर सांय स्थानीय रेलवे रोड पर जिला मुख्यालय कार्यालय पर आयोजित विशेष बैठक को सम्बोधित करते हुए राष्ट्रीय उपाध्यक्ष व जिलाध्यक्ष शीतल टण्डन ने सभी पत्रकार बन्धुओ को बधाई व शुभकामनाएं व साधुवाद देते हुए कहा कि 30 मई हिन्दी पत्रकारिता के इतिहास में महत्वपूर्ण दिवस है और इसी दिन वर्ष 1826 में मूल रूप से कानपुर निवासी पंडित जुगल किशोर शुक्ला ने कोलकाता में प्रथम हिन्दी साप्ताहिक अखबार उदंत मार्तंड का प्रकाशन शुरू किया था। उसके बाद देश में हिन्दी पत्रकारिता ने अपने पैर पसारने शुरू किये और वर्तमान समय में हिन्दी पत्रकारिता लोकतंत्र का महत्पूर्ण स्तम्भ बन चुकी है।

श्री टण्डन ने कहा कि लोकतंत्र में न्यायपालिका, विधायिका व कार्यपालिका के बाद पत्रकारिता चौथा स्तम्भ स्थापित हो चुका है। देश विदेश के समाचार, खेल, अर्थजगत, स्थानीय व प्रादेशिक समाचार व संपादकीय के साथ प्रतिदिन छपने वाले विभिन्न विषयों पर लेख के रूप में समाचार पत्र  एक दैनिक पुस्तक का रूप ले चुके हैं। उन्होंने कहा कि वे पिछले 60 वर्ष से भी अधिक समय से समाचार पत्र व पत्रिकाएं नियमित रूप से पढ़ते भी हैं और उनका अध्ययन करते हुए एक जागरूक पाठक के रूप में कार्य करते हैं और प्रेस जगत से उनके व व्यापार मण्डल के बहुत ही सौहार्दपूर्ण सम्बन्ध हैं।

 इन समाचारों व लेखों से केन्द्र व देश की विभिन्न राज्य सरकारों के अच्छे कार्यों के साथ-साथ अधूरे कार्यों की भी समाचार पत्रों में चर्चा होने से लोगों को हर क्षेत्र की प्रतिदिन नवीनतम जानकारी मिलती है। हालांकि पिछले तीन दशक से हिन्दी टी.वी. व अन्य उपकरणों से इलैक्ट्रोमीडिया की भी लोकप्रियता व उनके देखने वालों की संख्या बढ़ी है, परन्तु हिंदी समाचार पत्र व पत्रिकाओं का महत्व कभी भी कम नहीं हो सकता। 

श्री टण्डन ने कहा कि हिन्दी माध्यम से पूरी दुनिया में अपनी पहचान बनाने व ज्वलंत राष्ट्रीय समस्याओं को जन-जन तक पहुंचाने में गणेश शंकर विद्यार्थी, कन्हैया लाल मिश्र प्रभाकर, विष्णु पुडाकर, अक्षय कुमार जैन, लाला जगत नारायण, धर्मवीर भारती, प्रभाष जोशी, सच्चिदानंद वात्सयान, रघुवीर सहाय, शशी शेखर, राजेन्द्र सिंह, संजय गुप्त आदि ऐसे अनेक नाम हैं साथ ही वर्तमान में इलैक्ट्रोनिक मीडिया व टीवी के माध्यम से समाचार व अपने विचार रखने में अरूण शौरी, पुण्य प्रसून वाजपेई, सुधीर चौधरी, प्रभु चावला, रजत शर्मा, श्वेता सिंह, अर्णव गोस्वामी, विनोद दुआ, रविश कुमार, नविका कुमार आदि अनेक ऐसे नाम हैं, जिन्होंने राष्ट्रीय व अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर समय-समय पर हिन्दी का परचम लहराया है। 

बैठक में प्रमुख रूप से जिलाध्यक्ष शीतल टण्डन, जिला महामंत्री रमेश अरोडा जिला कोषाध्यक्ष राजीव अग्रवाल, मेजर एस.के.सूरी, पवन गोयल, गुलशन नागपाल, अनिल गर्ग, रमेश डावर, कर्नल संजय मिडढा, संदीप सिंघल आदि उपस्थित रहे।