जिला व्यापार मण्डल द्वारा तम्बाकू से भारत को मुक्त करने की इच्छा शक्ति दोहराई

धू्रमपान की शुरूआत भारत में सन 1609 में हुक्के से हुई थी: शीतल टण्डन

सहारनपुर। पूरे विश्व में भारत में 31 मई को विश्व तम्बाकू दिवस के कार्यक्रमों की श्रृंखला मे लोगों को तम्बाकू के सेवन से दूर रहने व इससे होने वाली भयानक बीमारियांें के प्रति जागरूक करने हेतु एक विशेष बैठक का आयोजन गत दिवस देर सांय स्थानीय माल गोदाम रोड स्थित जिला व्यापार मण्डल के उप कार्यालय पर  किया गया। इस अवसर पर जिलाध्यक्ष शीतल टण्डन ने कहा कि भारत में तम्बाकू सेवन की शुरूआत हुक्के के रूप में अकबर बादशाह के कार्यकाल में सन 1609 मंे हुई। उसके बाद तम्बाकू सेवन में पूरे विश्व में बीडी, सिग्रेट व गुटका व अन्य माध्यमों से लोगों ने तम्बाकू का सेवन शुरू कर दिया और आज तम्बाकू के जाल में विश्व की 26 प्रतिशत आबादी फंसी हुई है।

श्री टण्डन ने कहा कि हमारे देश में सेहत के लिए सबसे बड़ी चुनौती तम्बाकू बन चुका है क्योंकि भारत में 

लगभग सात  करोड़ लोग धू्रमपान करते हैं, 16.37 करोड़ लोग चबाकर तम्बाकू का सेवन करते हैं, साढे चार करोड़ लोग दोनों तरह के तम्बाकू का सेवन करते हैं, 52 करोड़ लोग जिनमें बड़ी संख्या में महिला, बच्चे, युवा व बुजुर्ग शािमल है प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष रूप से तम्बाकू का सेवन करते हैं, यह बेहद चिन्ता का विषय है। श्री टण्डन ने कहा कि आज की युवा पीढी में गुटका, पान मसाला व अन्य नशीली वस्तुओं का सेवन बढता जा रहा है यह बेहद चिंता का विषय है। इसके लिए सभी अभिभावकों को जागरूक रहकर युवाओं को तम्बाकू का सेवन न करने के लिए प्रेरित करना होगा। 

उन्होंने कहा कि समाज के सभी वर्गों को तथा केन्द्र व राज्य सरकारों की तम्बाकू सेवन के निषेध के लिए व देशवासियों के उत्तम स्वास्थ्य के लिए प्रभावशाली कदम उठाने होंगे। जो लोग तम्बाकू सेवन नहीं करते उनके लिए जरूरी है के वे धू्रमपान करने वाले लोगों से दूर रहे इससे होने वाले नुकसान के सम्बन्ध में जानकारी दें। उन्होंने इस बात पर बल दिया कि विश्व तम्बाकू निषेध दिवस पर युवाओं को नशे की लत छुड़ा कर समाज की मुख्य धारा में लाने का संकल्प हम सबको लेना होगा व्यापार मण्डल इसके लिए जागरूकता अभियान भी चलायेगा।

इस अवसर पर जिलाध्यक्ष शीतल टण्डन, जिला महामंत्री रमेश अरोड़ा, जिला कोषाध्यक्ष राजीव अग्रवाल, मेजर एस.के.सूरी, पवन गोयल,गुलशन नागपाल, बलदेव राज खुंगर, कर्नल संजय मिडढा, अनिल गर्ग, संजीव सचदेवा,ओ.पी.अरोड़ा उपस्थित रहे।