गंदगी देख भड़कीं डीएम, बोलीं- 7 दिन में साफ हो शहर, अतिक्रमण करने वालों पर हो कार्रवाई

उरई/जालौन। जालौन की डीएम चांदनी सिंह ने सोमवार की सुबह सड़कों पर टहलकर उरई नगर पालिका की सफाई व्यवस्था की जांच की। जगह-जगह गंदगी का अंबार देखकर डीएम नाराज हो गईं। उनका पारा चढ़ गया। उन्होंने नगर पालिका के अधिकारियों की जमकर फटकार लगाई। वहीं शहर के विभिन्न चौराहों पर अतिक्रमण देख, उन्होंने अतिक्रमणकारियों को चेतावनी दी। साथ ही जल्द से जल्द अतिक्रमण हटाने के निर्देश दिए हैं। जिससे शहर में किसी प्रकार का जाम न लग सके। सोमवार की सुबह जालौन की जिलाधिकारी चांदनी सिंह ने एडीएम पूनम निगम के साथ मिलकर शहर का निरीक्षण किया। 

जिससे वह शहर की साफ सफाई व्यवस्था को देख सके। जब डीएम ने निरीक्षण किया तो उन्हें जगह-जगह कूड़े के ढेर नजर आए। शहर में नाले कूड़े के ढेर से भरे हुए थे। जिसे देख डीएम का पारा चढ़ गया। उन्होंने नगर पालिका के सफाई निरीक्षक और अन्य अधिकारियों को जमकर फटकार लगाई। उन्होंने निर्देश दिए कि शहर में किसी प्रकार की कोई गंदगी न रहे। बता दें कि डीएम का यह निरीक्षण बरसात के मौसम को देखते हुए किया गया। बरसात के समय शहरों में नालियां चोक होने के कारण जगह-जगह जलभराव हो जाता है। जिससे लोगों को समस्या का सामना करना पड़ता है। इसी को लेकर उन्होंने निरीक्षण किया।

 मगर निरीक्षण में कई खामियां मिलने पर उन्होंने अधिकारियों को सख्त निर्देश दिए कि शहर की सफाई व्यवस्था को दुरुस्त रखा जाए। वहीं शहर के विभिन्न चौराहों पर अतिक्रमण देख उन्होंने पीडब्ल्यूडी के अधिकारियों को निर्देश दिए कि वह अतिक्रमणकारियों को चिन्हित कर लें। साथ ही सड़क को साफ करते हुए उस जगह पर निशान लगा दें, जिससे अतिक्रमणकारियों पर कार्रवाई की जाए। जो सरकारी जगह पर और सड़क पर कब्जा किए हुए हैं उनको चेतावनी दी जा सके। जिलाधिकारी ने सभी अधिकारियों को निर्देश दिए कि वह एक हफ्ते में उस स्थान को छोड़ दें, जहां पर वह गैरकानूनी तरीके से कब्जा किए हैं। 

वहीं जिलाधिकारी ने बताया कि शासन के निर्देश है कि 7 मीटर की चौड़ी सड़क पर कोई भी कब्जा करता है तो उसके खिलाफ सख्त से सख्त कार्रवाई की जाए। अवैध तरीके से जो भी निर्माण हुआ है, उसे तोड़ा जाए। डीएम के निरीक्षण के बाद अधिकारियों में हड़कंप मचा रहा। जिलाधिकारी ने शहर के माहिल तालाब से लेकर शहीद भगत तक निरीक्षण किया। इस दौरान उरई के उपजिलाधिकारी रामकुमार, सिटी मजिस्ट्रेट कुंवर, वीरेंद्र प्रताप मौर्या सहित पीडब्ल्यूडी के अधिकारी मौजूद रहे।