न लक्षणों से पहचाने बच्चा है कमजोर, जानिए इससे बचाव के उपाय

सारा दिन बच्चे खेलने के बाद भी नहीं थकते। बच्चे के शरीर में उछल-कूद करने की क्षमता होती है। परंतु यदि आपके बच्चा खेलने के बजाय शांति से बैठा है तो उसे कमजोरी हो सकती है। मांसपेशियों में कमजोरी आने के कारण बच्चो को चलने में परेशानी होती है। शरीर भी सुस्त रहने लगता है। यदि आपका बच्चा शरीर में कमजोरी महसूस कर रहा तो आपको इस बात पर खास ध्यान देना चाहिए। तो चलिए आपको बताते हैं इसके लक्षण, उपाय और बचाव के कारण... 

कमजोरी के क्या कारण होते हैं 

बच्चे में कमजोरी होने के अलग-अलग कारण हो सकते हैं। मांसपेशियो में कमजोरी, पोलियो, वायरल या फिर कोई अन्य बीमारी के कारण बच्चे में कमजोरी हो सकती है। इसके अलावा बच्चे के शरीर को अच्छे से विकास न हो पाना, लंबाई का रुक जाना, बच्चे का अंडरवेट होना जैसी समस्याएं हो सकती हैं। 

कमजोरी कैसे करें दूर 

. आप बच्चे की डाइट में पोष्टिक आहार को शामिल करें। कैल्शियम, आयरन, विटामिन्स, ओमेगा-3, एंटीऑक्सीडेंट्स से भरपूर चीजें खिला सकते हैं। 

.  आप बच्चे से बात करें । इस बात की खास जानकारी रखें कि आपके बच्चे के साथ कोई दुर्व्यवहार कर रहा है तो उसे मानसिक पेरशानी का सामना करना पड़ सकता है। 

. बच्चे को ज्यादा से ज्यादा पानी का सेवन करवाएं। आप उसके शरीर को हाइड्रेटेड रखने का प्रयास जरुर करें। 

. ज्यादा समस्या होने पर डॉक्टर को जरुर संपर्क करें । 

कमजोरी के लक्षण 

 पैरों में कमजोरी महसूस होना 

आपक बच्चे के शरीर में आवश्यक पोशक तत्वों की कमी के कारण पैरों में कमोजरी हो सकती है। यदि आपके बच्चे को खड़े होने में, चलने में और दौड़ने में परेशानी होती है तो यह भी कमजोरी का ही लक्षण हो सकता है। यह लक्षण कैल्शियम की कमी के कारण भी सकते हैं। 

बार-बार चेहरा सूखना 

बच्चे के शरीर में कमजोरी होने के कारण चेहरे में भी कई तरह के बदलाव दिखाई देते हैं। होंठो का सूखना,  होंठ फटना, आंखों के नीचे काले घेरों का आना, चेहरे पर रैशेज हो जाना जैसी परेशानियां भी दिख सकती हैं। बच्चों की मुस्कुराहट या फिर चेहरा टेढ़ा भी हो सकता है। 

सिरदर्द और थकान रहना 

 थोड़ा सा खेलने के बाद यदि आपका बच्चा थक जाता है तो यह भी कमजोरी का ही कारण हो सकता है। मोटापा, आलस , सुस्ती ,पढ़ाई के दौरान सिररदर्द होना भी कमजोरी के ही लक्षण होते हैं। इसके अलावा हृदय की गति का बढ़ना या फिर सांस लेने में तकलीफ भी हो सकती है। 

बुखार और सर्दी 

कमजोर इम्यून सिस्टम के कारण भी बच्चों के शरीर में कमजोरी आ सकती है। सर्दी, जुकाम, बुखार, पेट दर्द और अपच जैसी समस्याएं भी इस बीमारी का ही लक्षण है। आप बच्चे के स्वास्थ्य और खान-पीने के खास ध्यान रखें।