जिलाधिकारी की अध्यक्षता में सम्पन्न हुई जिला स्वास्थ्य समिति की बैठक

बहराइच । जिलाधिकारी डॉ. दिनेश चन्द्र ने शुक्रवार को देर शाम कलेेक्ट्रेट सभागार में आयोजित जिला स्वास्थ्य समिति बैठक की अध्यक्षता करते हुए निर्देश दिया कि आमजन को शासन द्वारा अनुमन्य चिकित्सकीय सुविधाएं मानक के अनुसार उपलब्ध करायी जायें। प्रभारी चिकित्साधिकारियों को यह सुनिश्चित करने के निर्देष दिये गये कि कहीं पर भी टीकाकरण का औसत राज्य के औसत से कम नहीं होना चाहिए।

 डॉ. चन्द्र ने कहा कि जिन सी.एच.सी. का औसत राज्य औसत से कम है प्रयास कर प्रगति में सुधार लाया जाय। बैठक में टीकाकरण सत्र की समीक्षा के दौरान मिहींपुरवा क्षेत्र में लॉजिस्टिक की उपलब्धता मानक के अनुरूप न पाये जाने पर कड़ी अप्रसन्नता व्यक्त करते हुए प्रभारी चिकित्साधिकारी मोतीपुर को नोटिस जारी करने के निर्देश दिये गये। सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र चित्तौरा, नवाबगंज, विशेवरगंज व बलहा में एचआईवी जॉच किट के अभाव में गर्भवती महिलाओं की जॉच प्रभावित होने के सम्बन्ध में डीएम द्वारा निर्देश दिया गया कि आवश्यकतनुसार लॉजिस्टिक की उपलब्धता सुनिश्चित करते हुए शत-प्रतिशत गर्भवती महिलाओं की एच.आई.वी. जॉच की जाय।

प्रधानमंत्री मातृत्व सुरक्षित अभियान की समीक्षा के दौरान डीएम डॉ. चन्द्र ने निर्देश दिया कि सभी स्वास्थ्य केन्द्रों पर मानक के अनुसार डॉप्लर मशीन की उपलब्धता सुनिश्चित करायी जाये ताकि मशीन के अभाव में किसी महिला एच.आर.पी. जॉच प्रभावित न होने पाये। जिलाधिकारी ने यह भी निर्देश दिया कि टीकाकरण के दौरान पंजिकाओं के सभी कालमों को अनिवार्य रूप से भरा जाय। राष्ट्रीय बाल स्वास्थ्य कार्यक्रम अन्तर्गत गठित टीमों द्वारा मानक से कम भ्रमण की स्थिति पाये जाने पर डीएम ने नाराज़गी जताते हुए निर्देश दिया कि प्रत्येक टीम द्वारा प्रति माह कम से कम 75 से अधिक स्कूल एवं ऑगनबाड़ी केन्द्रों का भ्रमण किया जाय। नवजात शिशु देखभाल गृह भ्रमण कार्यक्रम की समीक्षा करते हुए सभी बी.सी.पी.एम. को निर्देश दिया कि प्रत्येक माह मानक के अनुसार भ्रमण करें। डीएम ने कहा कि मानक से कम भ्रमण पाये जाने पर सम्बन्धित के विरूद्ध कार्रवाई की जायेगी।

इस अवसर पर मुख्य विकास अधिकारी कविता मीना, मुख्य चिकित्साधिकारी डॉ. एस.के. सिंह, मुख्य चिकित्सा अधीक्षक, जिला कार्यक्रम अधिकारी जी.डी. यादव, राजस्व ग्राम गोद लेने वाले अधिकारी, प्रभारी चिकित्साधिकारी, बाल विकास परियोजना अधिकारी, डी.टी.एम., पीरामल स्वास्थ्य, जिला विशेषज्ञ कम्यूनिटी आउटरीच यू.पी.टी.एस.यू. आदि उपस्थित रहे।