दरगाह रहमानी में अकीदतमंदों ने पहुंचकर मांगी मुल्क में अमन शांति कायम रहने की दुआ

सहारनपुर। दरगाह रहमानी मण्डी समिति रोड़ सहारनपुर में विश्व विख्यात आला हज़रत शाह इनाम उर्रहमान कुद्दुसी, क़ादरी,चिश्ती, निज़ामी की दरगाह रहमानी के ख़लीफ़ा हक़ीम बाबू रशीद रहमानी गाँव घोघरेकी के उर्स के मौके पर अकीदतमंदों ने उपस्थित होकर दरगाह रहमानी पर हाज़िर होकर फ़ातिहा ख़्वानी कर चादर पोशी की।उर्स के दौरान मुल्क में खुशहाली,तरक़्क़ी,धार्मिक स्थलों की हिफाज़त,साम्प्रदायिकता के ख़ात्मे बीमारों को शिफ़ा की दुआ की गई।

 इस मौके पर सज्जादा नशीन पीरजी अरशद रहमानी ने बताया कि आला हज़रत शाह इनाम उर्रहमान कुद्दुसी, क़ादरी,चिश्ती, निज़ामी विश्व विख्यात धार्मिक गुरु थे। जिन्होंने सहारनपुर का नाम भारत में ही नहीं कई मुल्कों तक पहुंचाया। कई मुल्कों में हज़रत के अक़ीदत मंद मौजूद है। उन्होंने अमन,शांति,भाईचारा और सभी धर्मों के लोगो को प्रेम के साथ रहने का संदेश दिया। आज हमें उनकी इल्मी रोशनी से फायदा उठाना चाहिए उन्होंने अफसोस जताते हुए कहा कि आज लोग अंधेरे में है तथा धर्म के प्रचार प्रसार को छोड़कर धर्म के असली मक़सद को पीछे छोड़ रहे हैं उन्होंने कहा कि इस समय लोगों के शिक्षित होने की ज़रूरत है बिना शिक्षित हुए लोग आगे नहीं बढ़ सकते हैं साथ ही लोगों को इस्लाम धर्म के बताए मार्ग पर भी चलने की ज़रूरत है। 

जो शांति,प्रेम व भाईचारा पर केंद्रित है। अपने आप को भौतिकवाद सांसारिक मोह्माय को त्याग कर इस्लामी तालीमा जो आध्यात्मिक मार्ग पर अग्रसर होकर समस्त मानव जाति की बिना किसी भेदभाव के सेवा करे। एक अल्लाह की इबादत करते हुए समस्त विश्व कल्याण के लिए प्रयास करते हुए सेवारत रहे। इस दौरान पर डॉ0 आबिद हसन वफ़ा सहारनपुरी ने दरगाह पर एक रूहानी कलाम पेश किया। इस दौरान शुऐब रहमानी,दानिश सिद्दीकी, रफीक रहमानी,नदीम रहमानी,अहमद रज़ा,अब्दुल मतीन,राफे सिद्दीकी,सिंदर रहमानी,फ़ाज़िल रहमानी आदि मौजूद रहे।