फोन, लैपटॉप के कारण खराब हो रही है बच्चे की आंखें

बच्चे आजकल अपना ज्यादातर समय कम्पयूटर, लैपटॉप, स्मार्टफोन पर ही बिताते हैं। जिसके कारण उनकी आंखें कमजोर होने लगती हैं। कोरोना ने इस आदत को और भी बढ़ा दिया है। ऑनलाइन क्लासेस, स्कूल होमवर्क सब चीजें फोन से ही होती थी। जिसक सीधा-सीधा असर बच्चों की आंखों पर ही पड़ा है। माता-पिता भी इस समस्या से परेशान हैं कि बच्चों की इस आंखों का ख्याल कैसे रखें। ज्यादा समय तक कम्पयूटर स्क्रिन के आगे बैठने से बच्चे की आंखें दर्द, खुजली होना, लाल होना और पानी निकलने जैसी समस्याएं होने लगती हैं। तो चलिए आपको कुछ ऐसे टिप्स बताते हैं जिनसे आप अपने बच्चे की आंखों का ध्यान रख सकेंगे। 

बच्चे को न्यूट्रिएंट्स से भरपूर आहार दें 

आप अपने बच्चे को न्यूट्रिएंट्स से भरपूर आहार का ही सेवन करवाएं। विटामिन-ए, विटामिन-बी और प्रोटीन युक्त खाने को बच्चे की डाइट में शामिल करें। इसके अलावा आप उन्हें दूध, हरी सब्जियां, गाजर और दही भी खिला सकते हैं।

बच्चे को अक्षर बड़े करके दें 

बच्चा जब भी कम्पयूटर, लैपटॉप या फिर मोबाइल स्क्रिन पर काम कर रहा हो तो उसको अक्षरों का साइज बढ़ाकर दें। स्कूल का काम करते हुए बच्चे फोन में आंखें गड़ा देते हैं। जिससे उनकी आंखों की रोशनी कमजोर होने लगती है। आप बच्चे को अक्षर जूम करके दें। 

फोन देने का समय निर्धारित करें 

बच्चे को ज्यादा फोन न दें। एक समय रखें जिसमें आप उन्हें फोन दें। ज्यादा फोन का इस्तेमाल करना भी बच्चे की आंखों के लिए नुकसानदायक हो सकता है। स्क्रिन टाइमिंग तय कर लें और फिर उन्हें फोन दें। तय किए गए समय से आप बच्चे से फोन ले लें। 

आंखों का करवाएं टेस्ट 

आप समय-समय पर बच्चों की आंखों का टेस्ट जरुर करवाएं। आंखों की हेल्दी रखने के लिए रुटीन में चेकअप करवाते रहें। इससे आपको पता चलेगा कि उनकी आईसाइट कमजोर तो नहीं हो रही। साथ ही आपके बच्चों को आंखों में कोई समस्या नहीं होगी। 

बच्चे से करवाएं व्यायाम 

आप बच्चों को एक्सरसाइज की आदत भी जरुर डालें। इससे उनका शरीर एकदम फिट रहेगा। बच्चे टैकनोलोजी के कारण आलसी होते जा रहे हैं। आप बच्चों को फिजिकली फिट रखने के लिए उन्हें व्यायाम के लिए जरुर प्रेरित करें।