अक्षय तृतीया २०२२

  भुवन में  आत्म - तत्व ही  वंदनीय,

  ज्योति  जिसकी  जले  दिन अक्षय।  

 

  गीता-प्रवचन से युग -मन  प्रक्षालन,

  धर्म-युद्ध  संग  द्वापर का समापन।

   

  सच, दान करें, दिन है यह महान,

  सहज, निःस्वार्थ हो देने की भावन।

 

  न प्रतिफल-विचार, वृत्ति  तपस हो,

  इक ध्येय कि, समाज समरस  हो।


  चिंतन, साधन हेतु, भू है,धर्म -उपवन,

  हर  धर्म  है आत्म-तत्व का प्रकाशन।

 

  अक्षय तीज सदा है, निर्वैरता -संकल्प,

  सभी स्वयं रूप,अपनत्व ही विकल्प।

 

  क्षमा सहज-धर्म, होता सद्गुण  वरण,

  परशुराम करें, राम को शक्ति-अर्पण।

 

 किसान  करें, अक्षय उपज का शगुन,

 जैन धर्मी करें, आदि-गुरु तप- स्मरण।


 अठारह-पुराण में  व्यास -वचन,परम्

 अक्षय धाम बसे आत्म-तत्व, विश्व-धर्म।

 

 त्याग,अर्पण  हेतु  हो, दान-धर्म  ध्यान,

 समत्व -शिशु पले, करे तीज को नमन।

   

   @ मीरा भारती,

      पुणे,महाराष्ट्र। 

Popular posts
जयप्रकाश का बिगुल बजा तो जाग उठी तरुणाई है।
Image
कृषक इंटर कॉलेज में स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर छात्र छात्राओं ने देशभक्ति गीतों के साथ किया अपनी कला का प्रदर्शन।
Image
दि किसान सहकारी चीनीमिल में चल रहे मशीनों की मरम्मत कार्य का निरीक्षण करने पहुंचे अपर सचिव चीनी उद्योग एवं गन्ना विकास व आबकारी विभाग संजय आर भूसरेड्डी ।
Image
युवक ने जहर खाकर की खुदकुशी
Image
पूर्व एमएलसी की माँ का निधन, जताई गई संवेदना
Image