प्रभु प्रतिष्ठा में निहित होता है लोक-कल्याण : जिन मणिप्रभ सूरीश्वर

महावीर वाटिका में प्रभु प्रतिष्ठा हुई सम्पन्न, आज द्वारोद्घाटन के साथ होगा महोत्सव का सुखद समापन  

पदारोहण समारोह व बड़ी दीक्षा हुई आयोजित, वडेरा समाज गौरव उपाधि से सम्मानित

बाड़मेर । श्री महावीर जिन मन्दिर अंजनशलाका व प्रतिष्ठा को लेकर जैन श्रीसंघ, बाड़मेर एवं श्री भगवान महावीर जिन मन्दिर प्रतिष्ठा महोत्सव समिति की ओर से 04 मई से 09 मई तक लंगेरा रोड़ स्थित महावीर वाटिका के पावन प्रांगण में अंवति तीर्थाेद्धारक, खरतरगच्छाधिपति परम पूज्य आचार्य भगवन्त श्री जिनमणिप्रभसूरीश्वरजी मसा, वर्षीतप के तपस्वी रत्न, परम पूज्य आचार्य भगवन्त गुरूदेवश्री कवीन्द्रसागर सूरीश्वरजी मसा व बह्रमसर तीर्थाेद्धारक परम पूज्य आचार्य भगवन्त श्री जिनमनोज्ञसूरीश्वरजी मसा आदि ठाणा की पावन व मंगलमय निश्रा में महोत्सव के पांचवें दिन रविवार को भव्यातिभव्य कार्यक्रमों व अनुष्ठानों का आयोजन हुआ ।  

जैन श्रीसंघ, बाड़मेर के अध्यक्ष व महोत्सव समिति के संयोजक प्रकाशचन्द वडेरा ने बताया कि महावीर वाटिका में बने नूतन जिनालय की प्रतिष्ठा रविवार को चतुर्विघ संघ की उपस्थिति में हर्षाेल्लास के साथ सम्पन्न हुई । जिन मन्दिर में परमात्मा श्री महावीर स्वामी भगवान की प्रतिमा सहित गौतम स्वामी व भैरूजी की प्रतिमा को विराजमान किया गया । इस दौरान साधु-साध्वी मण्डल सहित हजारों की संख्या में जैन् समाज के गणमान्य नगारिक उपस्थित रहे । प्रतिष्ठा पश्चात क्षत्रियकुण्ड नगर में धर्मसभा का आयोजन हुआ ।  

धर्मसभा में खरतरगच्छाधिपति परम पूज्य आचार्य भगवन्त श्री जिनमणिप्रभसूरीश्वरजी मसा ने कहा कि परमात्मा की प्रतिष्ठा जन-जन में हर्ष और खुशी का संचार करती है । महावीर वाटिका में परमात्मा महावीर की इतनी अद्भूत, अलौकिक प्रतिमा का विराजमान होना अद्वितीय है । प्रभु प्रतिष्ठा में लोक-कल्याण निहित होता है ।

महोत्सव समिति के सह-संयोजक सम्पतराज मेहता व मांगीलाल गोलेच्छा ने बताया कि महोत्सव के तीसरे दिन महावीर वाटिका के गौतमनगर में श्रद्धेय लाधुरामजी भंसाली हापा परिवार की ओर से बहुत स्वादिष्ट व सुन्दर फले-चुन्दड़ी तथा श्रद्धेय श्री राणामल, श्रद्धेय श्रीमति मोहिनी देवी की स्मृति में मालू मेहता परिवार की ओर से शाही करबा का लाभ लिया गया । जिनका श्री संघ की ओर से हाथी के ओहदंे पर बिठाकर वरघोड़ा सह बहुमान किया गया ।  

वडेरा समाज गौरव अलंकरण से विभूषित

जैन श्रीसंघ, बाड़मेर के उपाध्यक्ष बाबुलाल मालू व महामंत्री पारसमल छाजेड़ ने बताया कि महावीर वाटिका में भव्य व ऐतिहासिक जिन मन्दिर अंजनशलाका व प्रतिष्ठा को निर्विघ्न व सफलतापूर्व सम्पन्न करने पर जैन श्रीसंघ के अध्यक्ष व महोत्सव समिति के संयोजक प्रकाशचन्द वडेरा को चतुर्विघ संघ की उपस्थिति में समाज गौरव अलंकरण से विभूषित किया गया । जिस सकल ने वडेरा को बधाईयां व शुभकामनाएं प्रेषित की । श्रीसंघ अध्यक्ष प्रकाशचन्द वडेरा ने समस्त साधु-साध्वी भगवन्तों सहित सकल श्रीसंघ का ह्रदयपूर्वक आभार और अभिनन्दन किया । साथ ही महोत्सव को भव्य, अद्भूत व ऐतिहासिक बनाने में तन, मन और धन से अमूल्य सहयोग प्रदान करने वाले सभी साधर्मिक बन्धुओं आदि का आभार व धन्यवाद ज्ञापित किया ।

पदारोहण समारोह व बड़ी दीक्षा हुई आयोजित, आज द्वारोद्घाटन के साथ सम्पन्न होगा महोत्सव

जैन श्रीसंघ के अध्यक्ष व महोत्सव संयोजक प्रकाशचन्द वडेरा एडवोकेट ने बताया कि महावीर वाटिका में भगवान महावीर स्वामी के नूतन जिनालय की प्रतिष्ठा के साथ ही परम पूज्य गणीवर्य मनितप्रभसागरजी मसा को पूर्ण विधि-विधान के साथ उपाध्याय पदवी से तथा परम पूज्य मुनिराज मेहुलप्रभसागरजी मसा को गणी की पदवी से विभूषित किया गया । पदारोहण समारोह के बाद नूतन दीक्षित साध्वीश्री तन्मयरूचिश्रीजी मसा की बड़ी दीक्षा का विधान सकल संघ की उपस्थिति में आयोजित हुआ । वडेरा ने बताया कि  9 मई को प्रातः में द्वारोद्घाटन के साथ ही जिन मन्दिर अंजनशलाका व प्रतिष्ठा महोत्सव की पूर्णाहूति होगी ।