01 लाख रुपये का दंड हाई कोर्ट द्वारा माफ

लखनऊ। इलाहाबाद हाईकोर्ट की लखनऊ बेंच ने एक्टिविस्ट डॉ नूतन ठाकुर पर पूर्व में लगाया गया 01 लाख रुपये का दंड माफ कर दिया है। नूतन ने 2012 में सेना के मूवमेंट से जुड़ा एक जनहित याचिका दायर किया था जिसपर हाई कोर्ट ने मीडिया पर खबरों के प्रसारण के रोक संबंधी आदेश दिया था. नूतन ने तत्कालीन प्रेस कौंसिल अध्यक्ष तथा अन्य लोगों द्वारा हाई कोर्ट के आदेश की कथित अवहेलना को कोर्ट की अवमानना बताते हुए दो अवमानना याचिका दायर किया था। 

कोर्ट ने अवमानना याचिका को बलहीन पाते हुए उसे निरस्त कर दिया था तथा साथ ही अवमानना याचिका को अनावश्यक पाते हुए नूतन पर 01 लाख रुपये का दंड लगाया था, जिसके खिलाफ अपील किया गया था। इस अपील में नूतन ने अवमानना याचिका दायर करने के संबंध में कोर्ट ने निशर्त क्षमायाचना की जिसके बाद जस्टिस देवेन्द्र कुमार उपाध्याय तथा जस्टिस सुभाष सिद्धार्थ की बेंच ने इस अपील को निस्तारित कर दिया. कोर्ट ने कहा कि अभिलेखों से इस मामले में कोर्ट की अवमानना सामने नहीं आती है। साथ ही उन्होंने याची द्वारा निशर्त क्षमायाचना मांग लेने के आधार पर अर्थदंड माफ करने का निर्णय लिया।