बिजली की अघोषित कटौती से लोग बेहाल

रामपुर। स्वार में बिजली की अघोषित कटौती से लोग बेहाल परेशान हैं। 16 घंटे के सापेक्ष दो घंटे भी आपूर्ति नहीं मिल पा रही है। भीषण गर्मी में बिजली न मिलने से लोग रात को चौन से सो भी नहीं पा रहे हैं। ग्रामीण क्षेत्र में 16 घंटे बिजली आपूर्ति का शेड्यूल लागू है। शेड्यूल के सापेक्ष ग्रामीणों को मुश्किल से चार घंटे भी आपूर्ति नहीं मिल पा रही है। जिसका कोई हाल नहीं हैं। बीते दो सप्ताह से तो स्थिति और भी ज्यादा खराब हो गई है। 

24 घंटे में दो घंटे भी लाइट नहीं मिल रही है। जिससे क्षेत्र के मुकरमपुर,मधुपुरा, रूस्तमनगर, लखीमपुर, छपर्रा, इमरतपुर, खरदिया, समोदिया, सोनकपुर, फरीदपुर, रसूलपुर एवं मिलक काजी समेत दो दर्जन से ज्यादा गांवों में अंधेरा छाया है। 16 घंटे के आपूर्ति के सापेक्ष दो घंटे भी नियमित रूप से आपूर्ति नहीं मिल पा रही है। जिससे लोगों को खासी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। एक तरफ जहां बिजली न मिलने से किसान सिंचाई नहीं कर पा रहे हैं तो वहीं लोग दूसरी ओर गर्मी से बेहाल हैं। रात को लोग चौन से सो भी नहीं पा रहे हैं। 

बिजली कटौती का यह हाल है कि लोग मोमबत्ती के सहारे रोशनी करने को विवश हैं। जिसकी सुध लेने वाला कोई नहीं है। रुस्तमनगर के वीर सिंह का कहना है कि बिजली न मिलने से गर्मी से लोग बेहाल हैं। मधूपुरा के सर्वेश का कहना है बिजली नहीं मिलने रात को सो भी नहीं पा रहे हैं। समोदिया निवासी सोनकपुर के प्रेम सिंह का कहना है की बिजली की समस्या को लेकर उच्च अधिकारियों को लगातार शिकायती पत्र भेज कर अवगत कराया जा रहा है।लेकिन ग्रामीण क्षेत्र की जनता की कोई सुध लेने वाला कोई नही है।