ओसीडी यूपी के अधिवेशन में निशाने पर रहा रिलायन्स समूह

आन लाइन दवा व्यापार देश के लिए खतरनाक, सरकारें रोकें - राष्ट्रीय अध्यक्ष 

मुकाबला करने के लिए दवा व्यापारी खुद को अपडेट करें - राष्ट्रीय महामंत्री

वाराणसी। ओसीडी यूपी के तीसरे अधिवेशन में रिलायन्स समूह दवा व्यापारियों के निशाने पर रहा। कई प्रतिनिधियों ने इस समूह के बहिष्कार की मांग की। अधिवेशन में आन लाइन के माध्यम से नशीली दवाओं की आपूर्ति का मामला भी उठा। इसके जवाब में एआईओसीडी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जे एस शिंदे ने कहा है कि आन लाइन दवा आपूर्ति के माध्यम से दवा के नाम पर नशीली दवाओं की आपूर्ति केवल दवा कारोबार के लिए नहीं, देश के लिए भी खतरनाक है। सरकारों  को इसे शीघ्र संज्ञान में लेकर रोकना चाहिए। 

एक स्थानीय होटल के सभागार में आयोजित ओसीडी यूपी कार्यकारणी के तृतीय अधिवेशन में प्रतिनिधियों के प्रश्नों का उत्तर देते हुए श्री शिन्दे ने कहा कि उत्तर प्रदेश के तार, खास तौर से वाराणसी के तार सीधे  प्रधानमंत्री, प्रधानमंत्री कार्यालय और उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से जुड़े हैं। इस बात की जानकारी आप लोग प्रधानमंत्री, प्रधानमंत्री कार्यालय और मुख्यमंत्री के पास पहुंचाएं। केवल योगी जी ही इसे संज्ञान में ले लें और आन लाइन दवा आपूर्ति को यूपी में रोक दें तो उनकी देखादेखी दूसरे प्रदेशों को भी इसे रोकना होगा। 

प्रश्नोउत्तर में श्री शिन्दे ने किसी समूह का नाम तो नहीं लिया लेकिन कहा कि कोई भी समूह हो, दवा व्यापार पर उसके हमले को बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। उन्होंने कहा कि अन्याय बर्दाश्त करिएगा तो अन्याय बढ़ेगा। इसलिए हर हाल में अन्याय का विरोध करिए। इस विरोध में संगठन हर कदम पर आपका साथ देगा। 

एक प्रश्न के उत्तर में श्री शिन्दे ने कहा कि आन लाइन दवा कारोबार अवैधानिक है। हम इसका हर स्तर विरोध कर रहे हैं लेकिन आप भी करिए और संकल्प लीजिए कि अपनी रोजी रोटी की रक्षा के लिए आन लाइन  दवा कारोबार का हर स्तर पर विरोध करेंगे। इसके लिए थोड़ा घाटा भी सहना हो तो सहेगें। अधिवेशन को सम्बोधित करते हुए एआई ओसीडीके जनरल सेक्रेटरी राजीव सिंघल ने कहा है कि एआई ओसीडी ने कोविड काल से पहले ही संसदीय समिति के माध्यम से भारत सरकार को आन लाइन दवा बिक्री के खतरे से अवगत कराया था। 

संगठन आगे भी इस दिशा में अपनी जिम्मेवारी निभाएगा लेकिन इस चुनौती का मुकाबला करने के लिए आपको भी अपने को अपडेट करना होगा। उन्होंने कहा है कि दवा का रिटेलर व्यापारी केवल दवा व्यापार का नहीं, सम्पूर्ण देश की रीढ़ है। उसे किसी कीमत पर कमजोर नहीं होने दिया जाएगा।

श्री सिंघल ने कहा है कि संगठन किसी भी कीमत पर  होलसेल व्यापारी का नुकसान नहीं होने देगा। उन्होंने कहा कि दवा व्यापार में होलसेलर हो या रिटेलर, हम सभी एक परिवार के हैं। हम सब एक परिवार की तरह ही आन लाइन दवा कारोबार का मुकाबला करेंगे और अपना कारोबार किसी कीमत पर आनलाइन समूहों के हाथ में नहीं जाने देंगे।गुजरात प्रदेश अध्यक्ष जसवंत पटेल ने कहा है कि समय के साथ बदलाव जरूरी है। इसे स्वीकार करते हुए हमको आपको भी अपना रोजगार बचाने के लिए अपने में बदलाव लाना जरूरी है।

उन्होंने कहा है कि आपने अपने में समय के साथ यह बदलाव कर लिया तो रिलायन्स नहीं, कोई भी समूह आपका मुकाबला नहीं कर पाएगा। ओसीडी यूपी के अध्यक्ष दिवाकर सिंह ने सभी अतिथियों और प्रतिनिधियों का स्वागत किया और कहा कि दवा विक्रेता अपनी और कारोबार की रक्षा के लिए रिलायन्स समूह सहित सभी बड़ी कम्पनियों का बहिष्कार करने के लिए तैयार रहें।

ओसीडी यूपी के महासचिव सुधीर अग्रवाल ने इस अवसर पर जोन और मण्डल के पदाधिकारियों की घोषणा की तथा सभी प्रतिनिधियों का हार्दिक स्वागत किया। उन्होंने बहुत अच्छे तरीके से अधिवेशन को सम्पन्न कराने के लिए वाराणसी इकाई की भूरी भूरी सराहना की।

ओसीडी यूपी कार्यकारणी के तीसरे अधिवेशन  की शुरुआत मंत्रोचार से हुई। फिर संगठन के अखिल भारतीय अध्यक्ष जे एस  शिन्दे, महामंत्री राजीव सिंघल, संगठन मंत्री सन्दीप नागिया, उत्तर प्रदेश के अध्यक्ष दिवाकर सिंह, महामंत्री सुधीर अग्रवाल, कोषाध्यक्ष महेश अग्रवाल, पीआरओ योगेंद्र दुबे, संगठन मंत्री शैलेन्द्र सिंह टिल्लू, संगठन के वरिष्ठ साथी विभाशंकर ने मंच ग्रहण किया।

वाराणसी ओसीडी की तरफ से सर्वश्री दिनेश कुमार, संजय सिंह, विनोद यादव, अतुल जैन, सौरेष गुप्ता, अशोक सिंह, प्रशांत जायसवाल, अनिल शाह, धर्मेंद्र गुप्ता, सुनील गुप्ता, धर्मेन्द्र अग्रवाल, विनय गुप्ता और शैलेन्द्र सिंह आदि ने सभी पदाधिकारियों का माल्यार्पण और प्रतीक चिन्ह भेंट कर स्वागत किया। कार्यकारणी के तीसरे अधिवेशन का सरस संचालन पूजा सिंह ने किया। अधिवेशन में आए प्रतिनिधियों ने दवा कारोबार में व्याप्त संकट को लेकर अनेक प्रश्न किया जिसके जवाब में अध्यक्ष और महामंत्री ने तर्कसंग उत्तर दिया और भरोसा दिया कि किसी के प्रभाव में किसी का भी नुकसान नहीं होने दिया जाएगा। हमारे लिए दवा व्यापारियों का हित सर्वोपरि है।

इस अवसर पर पर सर्वश्री विद्यासागर राय, मनीष कपूर, प्रेम मिश्रा, सोमनाथ विश्वकर्मा, गौरव जुनेजा, अनूप जिजौरिया और केशव सर्राफ आदि को प्रतीक चिन्ह और अंगवस्त्रम प्रदान कर विशेष रूप से सम्मानित किया गया। इस अवसर पर वाराणसी संगठन ने सभी अतिथियों को रुद्राक्ष की माला भेंट की गई। मऊ के साथियों ने अतिथियों को मऊ की साड़ी और आज़मगढ़ के निज़ामाबाद का विशेष वर्तन भेंट किया।