डीएम के प्रयास से घण्टों में निस्तारित हुआ 48 वर्ष से लम्बित प्रकरण

फरियादी को डीएम ने सौपी खतौनी की नकल

कमली देवी से कमला देवी बनी फरियादी

बहराइच । तहसील कैसरगंज अन्तर्गत ग्राम बीबीपुर परगना फखरपुर निवासिनी श्रीमती कमला देवी पत्नी छैल बिहारी पुत्री गुरू प्रसाद द्वारा जिलाधिकारी डॉ. दिनेश चन्द्र के समक्ष इस आशय का प्रार्थना-पत्र प्रस्तुत किया गया कि उसके द्वारा वर्ष 1972 में बैनामे से प्राप्त भूमि में फरियादी का नाम कमली देवी अंकित है। जबकि आवेदिका के आधार, बैंक पासबुक व अन्य अभिलेखों में उसका सही नाम कमला देवी अंकित है। उसके द्वारा तमाम प्रयास किये जाने के बावजूद उसका नाम दुरूस्त नहीं हो पा रहा है।

प्रार्थिनी कमला देवी के प्रार्थना पत्र का कड़ा संज्ञान लेते हुए डीएम डॉ. चन्द्र द्वारा उप जिलाधिकारी कैसरगंज को निर्देश दिया गया कि तत्काल लिपिकीय त्रुटि का निस्तारण कराना सुनिश्चित करें। जिलाधिकारी के आदेशों के परिणाम स्वरूप मात्र कुछ घण्टों में ही फरियादी का नाम ही दुयस्त नहीं हुआ बल्कि जिलाधिकारी ने अपने कक्ष में स्वयं अपने हाथों से फरियादी को उद्धरण खतौनी भी उपलब्ध करा दी गयी। जिलाधिकारी ने बताया कि उद्धरण खतौनी में नाम दुरूस्त हो जाने से फरियादी को किसान सम्मान निधि सहित अन्य शासकीय योजनाओं का लाभ प्राप्त हो सकेगा। डीएम ने एसडीएम कैसरगंज को यह भी निर्देश दिया है कि ऐसे दूसरे प्रकरणों में तत्काल मांग दुरूस्तगी की कार्यवाही करते हुए दोषी कर्मचारियों के विरुद्ध कार्रवाई भी करे।