परिवार के स्तम्भ है, वृद्धजन

खुशकिस्मत है ,वह परिवार।

जिनमें मिलते हैं, वृद्धजन।।

मिलती है दुहा, सबको इनकी।

परिवार के स्तम्भ है, वृद्धजन।।

खुशकिस्मत है---------------------।।


मिलते हैं बच्चों को, संस्कार।

परिवार में, इन वृद्धजनों से।।

माँ-बाप से ज्यादा, करते हैं प्यार।

परिवार में बच्चें, वृद्धजनों से।।

होती है समृद्धि, उस घर में।

होते हैं मुखिया, जिनमें वृद्धजन।।

खुशकिस्मत है-------------------।।


रखते हैं अनुभव बहुत, ये वृद्धजन।

जिंदगी, दुनिया ,समाज और परिवार का।।

रखते हैं बनाये भाईचारा, समाज में।

देते हैं ज्ञान देश को,अमन- सदाचार का।।

तिरस्कार करें नहीं, इनकी बातों का।

सम्मान के हकदार हैं, वृद्धजन।।

खुशकिस्मत है---------------------।।


जिसने पाई है , जीवन में वृद्धावस्था।

नसीब वाला है , वह तो इंसान।।

सबको मिले , यह वृद्धावस्था।

ईश्वर का है , यह एक वरदान।।

करो पूजा, इन वृद्धजनों की।

ईश्वर का रूप है, ये वृद्धजन।।

खुशकिस्मत है--------------------।।


साहित्यकार एवं शिक्षक-

गुरुदीन वर्मा उर्फ जी.आज़ाद

तहसील एवं जिला- बारां(राजस्थान)

मोबाईल नम्बर- 9571070847