इत्र नगरी भगवा रंग में रंगी , सपा का सूपड़ा साफ तीनों सीटों पर भाजपा का कब्जा

अजय दुबे

कन्नौज।कन्नौज में सुबह से ही भारी सुरक्षा व्यवस्था के बीच मतगणना प्रारंभ की गई जिसमें जीटी रोड पर कई बैरिकेडिंग भी लगाई गई जहां पर भारी पुलिस फोर्स तैनात किया गया था जिले के आला अधिकारी बराबर सुरक्षा व्यवस्था हुआ का जायजा ले रहे थे वही अगर मतगणना स्थल की बात की जाए जिला प्रशासन ने शुरू से ही मतगणना स्थल पर मोबाइल पर कनेक्ट कर रखा था व्यवस्था में ढील दी गई साथ ही डीएम एसपी मतगणना स्थल एवं बैरी गरीबों का बराबर घूम घूम कर जायजा ले रहे थे।

 अगर बात की जाए मतगरना स्थल की तो भारी सुरक्षा व्यवस्था के बीच जिले के आला अधिकारी डीएम एसपी बराबर व्यवस्था पर निगरानी करेंगे वही जैसे ही कन्नौज सदर से भाजपा प्रत्याशी असीम अरुण ने बढ़त बनाई तो यह बढ़त सपा प्रत्याशी अनिल दोहरे कवर नहीं कर पाया और आखिर में 6163 से भाजपा प्रत्याशी असीम अरुण की जीत हुई।

उधर छिबरामऊ विधानसभा मैं भी भाजपा प्रत्याशी अर्चना पांडे ने शुरू से ही हर राउंड में 1000 की बढ़त पर कायम रहे और वह उनके पीछे चल रहे हैं सपा प्रत्याशी अरविंद यादव लीड कवर नहीं कर पाए और उन्हें हार का मुंह देखना पड़ा वहां भी भाजपा प्रत्याशी अर्चना पांडे ने पूर्व मंत्री हैं ने जीत हासिल की।

अगर बात की जाए तिर्वा विधानसभा की तो वहां सपा प्रत्याशी ने काफी देर तक अपनी लीड कायम रखी है लेकिन 18 ब 19 में राउंड में सपा प्रत्याशी की लीड भी काम ना आए और भाजपा प्रत्याशी कैलाश राजपूत में ईट को पूरा करते हुए फिर जीट दर्ज की।

जैसे ही सपा भाजपा के समर्थकों को बड़े अंतर की लिस्ट की जानकारी हुई दोनों पार्टियों के समर्थक एक दूसरे की शूटिंग करने लगे हो धीरे धीरे गाली गलौज शुरू हुआ और देते देते पथराव होने लगा दोनों तरफ हो रही पत्थरबाजी से सीआरपीएफ के एक जवान का सर फटा बाकी कई लोग भी घायल हुए जैसे ही पत्रों की जानकारी जिले के आला अधिकारियों को हुई। तो उन्होंने भारी पुलिस फोर्स के साथ पथराव कर रहे लोगों को खदेड़ा तब जाकर मामला शांत हुआ।

कन्नौज में इसी तरह तीनो सीटों पर भाजपा का कब्जा हुआ । जैसे ही जीत की जानकारी बाहर खड़ी भीड़ को हुई तो भाजपा कार्यकर्ताओं ने गुलाल अबीर से ख़ूब होली मनाई गई । उधर पूर्व विधायक अरविंद यादव ने बेईमानों का आरोप लगाते हुए मतगणना स्थल पर धरने पर बैठ गए । खबर लिखे जाने तक पूर्व विधायक ब सपा प्रत्याशी चिबरामऊ धरने पर बैठे थे। उधर जैसे ही मतगणना धीरे-धीरे भाजपा के पक्ष में रोजाना आने शुरू हुए और मतगणना का क्रम भाजपा प्रत्याशी की लीड के रूप में पहुंचा जिले के कुछ आला अधिकारियों के स्वभाव में भी परिवर्तन देखने को मिला उन्होंने भी अपने शुरु  बदल लिए।