मानसिक जागरूकता एवं स्क्रीनिंग से संबंधित शिविर आयोजित

बांदा। मुख्य चिकित्सा अधिकारी डा.अनिल कुमार श्रीवास्तव के दिशा निर्देश पर सत्यनारायण इंटर कॉलेज तिंदवारी में जिला मानसिक स्वास्थ्य कार्यक्रम की टीम द्वारा मानसिक जागरूकता एवं स्क्रीनिंग से संबंधित शिविर आयोजित किया गया। शिविर में मनोरोग चिकित्सक डा. हरदयाल ने बच्चों को किसी भी दुर्व्यसन से बचने की सलाह दी। उन्होंने बताया कि मानसिक रोग किसी को भी किसी भी उम्र में हो सकता है। उसके लिए परिवारिक सामाजिक समन्वय बनाकर चलना। बड़े बुजुर्गों के सुविचार सुनना उनका अनुकरण करना सबसे श्रेष्ठ है। क्लीनिकल साइकोलॉजिस्ट डा. रिजवाना हाशमी ने बच्चों को पढ़ने के पहले अध्यापकों द्वारा विषय को अच्छी तरह समझ लेना हितकारी बताया। उन्हें बताया कि बच्चों को विषय तैयार होता है किंतु परीक्षा में लिख नहीं पाते या अध्यापकों के सामने बता नहीं पाते। उसके लिए उन्हें अध्यापकों के साथ तारतम्यता बनाए रखनी चाहिए।जो समझ में न आए वह अध्यापकों से लगातार पूछना चाहिए। 

           अनुश्रवण एवं मूल्यांकन अधिकारी नरेंद्र कुमार मिश्रा ने बताया कि कोविड-19 के चलते विद्यार्थियों की शिक्षा बाधित रही है। अब विद्यार्थियों को समय सारणी बनाकर और प्रत्येक विषय को समझ कर लिखना और याद करना अति आवश्यक है। इसके अलावा प्रातः उठकर अनुलोम विलोम,कपालभाति, भ्रामरी, प्राणायाम अवश्य करें साथ ही बच्चों को   योग एवं प्राणायाम की क्रियाएं भी कराई। साइकाइट्रिक नर्स त्रिभुवननाथ ने बताया कि गुटखा, पान, तंबाकू, सिगरेट आदि का सेवन फेफड़ों को जल्दी ही कमजोर कर देता है। मुंह का कैंसर आदि रोग उत्पन्न करता है। मानसिक रूप से कमजोर कर देता है। शिक्षक विशंभर दीक्षित ने बताया कि बच्चों को प्रतिदिन अपनी-अपनी हिंदी कविता का भी पाठ अवश्य करना चाहिए। इंटर कॉलेज के प्रधानाचार्य डा.अवधेश कुमार ने जिला मानसिक स्वास्थ्य कार्यक्रम की टीम को धन्यवाद ज्ञापित किया। टीम द्वारा बच्चों से प्रश्न पूछ कर बच्चों को पुरस्कार देकर सम्मानित किया गया।