यूक्रेन में भारतीय छात्रों को खाने पीने की दिक्कत , यूक्रेन में हालात खराब

ब्यूरो , सीतापुर

जनपद सीतापुर की तहसील सिधौली नगर निवासी आदित्य प्रताप सिंह यूक्रेन के कीव शहर में स्थित बोगोमोलेट्स नेशनल मेडिकल यूनिवर्सिटी में चतुर्थ वर्ष की पढाई कर रहे थे । और वह अपने घर सुरक्षित वापस आ गए आये । और आदित्य को देखकर उनके माता पिता ने तुरंत गले लगा लिया और उनकी आंखों में आंसू आ गये। आदित्य के घर पर उनसे मिलने वालों व यूक्रेन के हालात जानने वालों की भीड़ लगने लगी । और वही घर आकर आदित्य ने बताया कि  यूक्रेन में भारतीय छात्रों के हालात बहुत खराब हैं। और यूक्रेन में भारतीय छात्रों को खाने पीने के लिए भी बहुत दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। और कहा कि तीन दिन केवल बिस्किट खाकर गुजारे हैं । क्योकि वहां पर फिल्मी अंदाज में सिवीलिएन को मार दिया जाता है। और छात्रों को कई कई किलोमीटर पैदल चलकर ट्रेनों में भारी भीड का सामना भी करना पड़ रहा है । ट्रेनों में यूक्रेन ,उज्बेकिस्तान, कजाकिस्तान के लोग ट्रेन में चढने भी नहीं देते है और धक्का मुक्का एवं मारपीट करते हैं। वह भारत सरकार से अपील करते हैं कि मिशन गंगा के तहत सुमी व कीव में फंसे छात्रों को जल्द से जल्द भारत बुला लिया जाय । क्योकि उनके हालत वहाँ बहुत ज्यादा ही खराब है। तथा भारत सरकार से यह भी कहा कि यदि सुमी व कीव में फंसे छात्रों के फूड सप्लाई एवं वाटर सप्लाई बाधित हो गए । तो फिर वहां कि स्थितियां ज्यादा ज्यादा से खराब हो जायेगी। इसलिए भारत सरकार सुमी व कीव में फंसे छात्रों को जल्द से जल्द भारत वापस लाने के कार्य को सफल बनायें ।