IND vs WI Analysis: सुंदर ने चार साल बाद वनडे में वापसी करते हुए किया शानदार प्रदर्शन, लेकिन कोहली के शतक का इंतजार बढ़ा

भारत और वेस्टइंडीज के बीच तीन वनडे मैचों की सीरीज रविवार (छह फरवरी) को अहमदाबाद के नरेंद्र मोदी स्टेडियम में शुरू हुई। टीम इंडिया ने पहले वनडे को छह विकेट से अपने नाम कर लिया। इस मुकाबले में टीम इंडिया ने खेल के हर विभाग में शानदार प्रदर्शन किया। वॉशिंगटन सुंदर ने चार साल बाद वनडे में वापसी करते हुए शानदार प्रदर्शन किया, लेकिन विराट कोहली के शतकों का इंतजार एक मैच के लिए और बढ़ गया। ईशान किशन ने अच्छी शुरुआत की, लेकिन बड़ी पारी नहीं खेल सके।

पहले वनडे के मुख्य बिंदुओं पर नजर डालते हैं:

वॉशिंगटन सुंदर ने वापसी पर किया कमाल: तमिलनाडु के ऑलराउंडर सुंदर ने चार साल बाद वनडे में वापसी की। उन्होंने पिछला और इकलौत वनडे मैच 13 दिसंबर 2017 को मोहाली में श्रीलंका के खिलाफ खेला था। सुंदर को पिछले साल इंग्लैंड के दौरे पर उंगली में चोट लगी थी। उसके बाद उन्हें आईपीएल के दूसरे चरण और टी20 वर्ल्ड कप से बाहर होना पड़ा था। सुंदर पिछले साल के अंत में कोरोना का भी शिकार हो गए थे। इस कारण दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ सीरीज से भी दूर रहे थे। उन्होंने वापसी करते हुए तीन विकेट अपने नाम किए। 

कोहली के शतक का बढ़ा इंतजार: विराट कोहली वनडे में दूसरे खिलाड़ी के नेतृत्व में करीब पांच साल बाद उतरे। वे रोहित से पहले महेंद्र सिंह धोनी की कप्तानी में खेले थे। 2016 के अंत से कोहली खुद वनडे के कप्तान थे। उन्हें दक्षिण अफ्रीका दौरे से ठीक पहले कप्तानी से हटा दिया गया था। कोहली वेस्टइंडीज के खिलाफ पहले वनडे में शानदार लय में दिख रहे थे। उन्होंने चार गेंदों का सामना किया और आठ रन बनाए। पहली तीन गेंदों पर कोहली दो चौकों की मदद से आठ रन बना चुके थे। 

कोहली चाहकर भी मैच में शतक नहीं लगा पाते। वेस्टइंडीज ने स्कोर ही कम बनाए, लेकिन प्रशंसकों को उम्मीद थी कि विराट कम से कम 40-50 रनों की एक शानदार पारी खेलेंगे। विराट ने पिछला शतक बांग्लादेश के खिलाफ 22 नवंबर 2019 को लगाया था।

ईशान किशन ने ओपनर के तौर पर नहीं किया प्रभावित: ईशान किशन को शिखर धवन की जगह रोहित शर्मा के साथ ओपनिंग करने का मौका मिला। धवन कोरोना संक्रमित पाए गए थे। इस कारण वे मैच में नहीं खेल सके। किशन के करियर का यह तीसरा वनडे था। उन्होंने श्रीलंका के खिलाफ अपने डेब्यू मैच में 59 रन बनाए थे। उसके बाद दूसरे मैच में एक रन बनाकर आउट हुए थे। अब तीसरे वनडे में 36 गेंद पर 28 रन ही बना सके। पहली बार उन्हें वनडे करियर में ओपनिंग करने का मौका मिला। अच्छी शुरुआत को वे बड़ी पारी में नहीं बदल सके। अगर अगले मैच में शिखर धवन या केएल राहुल की वापसी होती है तो किशन को बाहर बैठना पड़ा सकता है।

रोहित शर्मा कप्तान के तौर पर फिर चमके: रोहित शर्मा को हमेशा एक बेहतरीन कप्तान माना गया है। उन्होंने आईपीएल में मुंबई इंडियंस को सबसे ज्यादा पांच खिताब जिताए हैं। रोहित ने भारत के लिए भी बेहतरीन कप्तानी की थी। आज एक बार फिर से उन्होंने यह साबित कर दिया कि क्यों उन्हें शांत और चालाक कप्तान माना जाता है। रोहित ने गेंदबाजों को बखूबी इस्तेमाल किया। सही रिव्यू लिए और खिलाड़ियों का मैदान पर उत्साह बढ़ाते नजर आए। इसके बाद बल्लेबाजी में भी धमाकेदार प्रदर्शन किया। उन्होंने 51 गेंदों पर 60 रन की शानदार पारी खेली। उन्होंने 10 चौके और एक छक्का लगाया।