प्रेगनेंसी दौरान वर्किंग वुमेन ऐसे रखें खुद का ध्यान, दिनभर रहेंगी एनर्जेटिक

प्रेगनेंसी पीरियड में महिलाएं सबसे ज्यादा मार्निंग सिकनेस से परेशान रहती है। इसके कारण उन्हें दिनभर कमजोरी, थकान, मितली आदि महसूस होता है। वहीं वर्किंग वुमेन इस समस्या के कारण अपने काम में पूरा ध्यान नहीं दे पाती है। ऐसे में इस अवस्था में वर्किंग वुमेन को अपनी डेली डाइट का खास ध्यान रखने की जरूरत होती है। चलिए आज हम बताते हैं कि गर्भावस्था दौरान वर्किंग वुमेन को खुद का कैसे ध्यान रखना चाहिए।

प्रेगनेंसी पीरियड को करें एन्जॉय

प्रेगनेंसी कोई बीमारी नहीं है। इसलिए इस दौरान अपना ध्यान रखते हुए खुद को बेचारा ना समझें बल्कि इस टाइम पीरियड को एन्जॉय करें। इस दौरान आप पोषक तत्वों व एंटची-ऑक्सीडेंट से भरपूर चीजों का दिल खोलकर सेवन करें। मगर गर्म तासीर वाली जैसे खाने से बचें। हेल्थ एक्सपर्ट अनुसार, इससे बच्चे को नुकसान पहुंचने का खतरा रहता है।

समय-समय पर खाएं

गर्भावास्था दौरान महिलाओं को भूखा बिल्कुल भी नहीं रहना चाहिए। दरअसल, मां के खाने से गर्भ में पल रहे बच्चे को पोषण मिलता है। ऐसे में इस दौरान फल, हरी सब्जियां, नारियल पानी, जूस, दलिया, ओट्स आदि हेल्दी चीजों का सेवन करें। इससे मां और गर्भ में पल रहे बच्चे का बेहतर विकास होने में मदद मिलेगी। इसलिए भूख लगने या हर 2 घंटे में जरूर कुछ खाएं।

डाइट में शामिल करें आयरन से भरपूर चीजें

इस दौरान महिलाओं के शरीर में खून की कमी नहीं होनी चाहिए। ऐसे में उन्हें अपनी डेली डाइट में केला, चने, हरी सब्जियां, अंकुरित अनाज, अनार, चुकंदर आदि आयरन से भरपूर चीजें शामिल करनी चाहिए। आप चाहे तो डॉक्टर से संपर्क करके आयरन के सप्लीमेंट्रस भी खा सकती है। आप अपने ऑफिस व कार्यक्षेत्र में फल व सब्जियों का सलाद साथ लेकर जा सकती है।

प्रोटीन से भरपूर चीजें खाएं

वर्किंग वुमेन को गर्भावस्था दौरान काम के साथ अपनी सेहत का ध्यान रखने की जरूरत होती है। वहीं बच्चे की हड्डियों और कोशिकाओं के विकास के लिए उन्हें कैल्शियम और प्रोटीनयुक्त डाइट लेनी चाहिए। आप ऑफिस में लंच दौरान रोजाना बदल-बदलकर दालें ले जा सकती हैं। इसके अलावा अकुंरित दाले खाना भी सही रहेगा। आप लंच में दही व शाम को स्नैक्स के तौर पर कच्चा पनीर खा सकती है।

बार-बार पीती रहे पानी

प्रेगनेंसी दौरान शरीर का तापमान व एनर्जी बरकरार रखने अधिक मात्रा में पानी पीएं। इससे आपके शरीर में मौजूद विषैले पदार्थ भी बाहर निकलने में मदद मिलेगी। इससे मां और गर्भ में पल रहा बच्चा हेल्दी रहेगा।

चाय व कॉफी का अधिक सेवन करने से बचें

काम के दौरान खुद को अलर्ट रखने के लिए महिलाएं ज्यादातर चाय-कॉफी का सेवन करती है। मगर इसे 1-2 कप से अधिक पीने से गैस, एसिडिटी की परेशानी हो सकती है। इसके लिए इनका रोजाना 1-2 कप ही सेवन करें। इसके साथ ही अपने साथ ऑफिस में हमेशा बिस्किट का पैकेट रखें। ऐसे में खाली चाय-कॉफी पीने की जगह पर साथ में 2-3 बिस्किट खाएं। इससे आपको लंबे समय तक पेट भरा हुआ महसूस होगा और गैस व एसिडिटी की समस्या से बचाव रहेगा।

घंटों एक जगह बैठने से बचें

अगर आपकी सीटिंग जॉब है तो घंटों एक ही जगह पर बैठने से बचें। नहीं तो आपके शरीर में अकड़न व दर्द महसूस हो सकता है। इसके लिए काम के बीच-बीच समय निकालकर टहलें। ऐसा करने से आपकी सुस्ती भी दूर होगी। इसके साथ गर्भ में पल रहे बच्चे का बेहतर तरीके से विकास होगा।