जिला कारागार में विधिक जागरुकता एवं साक्षरता शिविर का हुआ आयोजन

बहराइच। उ०प्र० राज्य विधिक सेवा प्राधिकरण, लखनऊ के निर्देशानुसार सचिव, जिला विधिक सेवा प्राधिकरण शिखा यादव द्वारा वर्चुअल माध्यम से जिला कारागार, बहराइच का निरीक्षण एवं जिला कारागार में विधिक जागरुकता एवं साक्षरता शिविर का आयोजन किया गया। शिविर में डिप्टी जेलर शरेन्द्र त्रिपाठी व श्रीमती बीना त्रिपाठी उपस्थित रहे।

डिप्टी जेलर श्री त्रिपाठी द्वारा बताया गया कि जिला कारागार, में निरुद्ध विचाराधीन बंदियों में पुरुष बंदी 1215 व महिला बंदी 73, सिद्धदोष बंदियों में पुरुष बंदी 245 व महिला 11 है। उन्होंने यह भी बताया गया कि बन्दियों के उत्साह हेतु बसंत पंचमी के अवसर पर जिला कारागार में कवि सम्मेलन का आयोजन किया गया। जिला कारागार में 01 बंदी कोविड पॉजिटिव पाये जाने के कारण उसे जिला अस्पताल के एल-2 वार्ड में रखा गया है तथा उसकी स्थिति अब स्थिर बतायी गयी है। जिला कारागार में ऐसे बंदी जिन्हें बुखार, सर्दी जैसे लक्षण होते हैं उन्हें अलग से आईसोलेशन वार्ड में रखा जाता है। पात्र 20 बंदियों को अब तक कोविड का बूस्टर डोज लगाया गया है।

सचिव द्वारा शिविर में उपस्थित महिला व बच्चा बैरक के बंदियों को उनके निःशुल्क मुकदमे की पैरवी हेतु जिला विधिक सेवा प्राधिकरण द्वारा निःशुल्क अधिवक्ता उपलब्ध कराये जाने की प्रक्रिया के बारे में बताया गया। ऐसे सिद्धदोष बंदी जिनकी अपील मा. न्यायालय में दाखिल नहीं हो पायी है, उन्हें अपनी अपील जेल अपील के माध्यम से कराये जाने हेतु सुझाव भी दिया गया। प्रत्येक माह आयोजित होने वाली जेल लोक अदालत के माध्यम से छोटे बादों के मुकदमे का शीघ्र निस्तारण कराये जाने हेतु प्रोत्साहित किया गया तथा प्ली बारगेनिंग व धारा 436 ए दं० प्र० सं० के बारे में बंदियों को बताया गया।

 बंदियों को कोविड-19 से बचाव हेतु दो गज की दूरी, मास्क का प्रयोग करने तथा समय समय पर साबुन से हाथ धुलने हेतु जागरूक किया गया। इसके अतिरिक्त मेरे द्वारा जेल प्रशासन को कोरोना महामारी से बचाव हेतु जिला कारागार में निरुद्ध शेष पात्र बंदियों को जल्द से जल्द बूस्टर डोज लगाये जाने प्रतिदिन जेल परिसर का संपूर्ण सेनेटाइजेशन व जेल परिसर की साफ-सफाई, बंदियों के बीच सोशल डिस्टेंसिंग तथा प्रत्येक बंदी मास्क अनिवार्य रूप से पहने का कड़ाई से पालन कराने का निर्देश दिया गया।