भाव की भार्या मात मेरी

भाव  की  भार्या  मात  मेरी,

मंगलमय  रुत   बसंत  लाई ।

सत्यपरायण  पीत   रंग   से,

धीर  वंसुधरा  खिलखिलाई ।


दिव्य  आभूषण से  विभूषित,

विदुषियों  की जनयत्री  आई।

कमललोचनी  तपस्विनी  की,

दयानत   रोम    रोम   समाई ।


करुणामय  दयालु   की  देवी,

अनुपम  वेदादि  रूप  दिखाई।

दिलोदिमाग  से  अविद्या  राग,

अमर्ष   पातक   रोष  मिटाई ।


ज्योति नव्या श्री

रामगढ़, झारखंड