12 मार्च को लोक अदालत, ज्यादा मामले चिह्नित करने के निर्देश

उरई/ जालौन। होने वाले राष्ट्रीय लोक अदालत को लेकर जिला जज तरुण सक्सेना के निर्देशन में नोडल अधिकारी व अपर जिला न्यायाधीश सुरेश चंद्र के विश्राम कक्ष में न्यायिक अधिकारियों के साथ वर्चुअल बैठक हुई। इसमें न्यायिक अधिकारियों को आवश्यक दिशा-निर्देश दिए गए। नोडल अधिकारी ने न्यायिक अधिकारियों को उच्च न्यायालय एवं राज्य विधिक सेवा प्राधिकरण द्वारा निर्गत निर्देशों से अवगत कराया। कहा कि जो मामले नेशनल ज्यूडिशियल डाटा ग्रिड (एनजेडीजी) पर दर्ज है, मात्र वही मामले इस लोक अदालत में निस्तारित होंगे। ऐसी स्थिति में सभी न्यायिक अधिकारी उनके न्यायालयों में विचाराधीन मामलों में से ऐसे मामलों को तत्काल चिह्ति करके संबंधित पक्षकारों को अविलंब सूचित करें। ताकि न्यायालय से प्रेषित नोटिसध्सम्मन की तामीला समय पर हो सके और अधिक से अधिक वादकारी लोक अदालत में सहभागिता कर सके।

 उन्होंने कहा कि राष्ट्रीय लोक अदालत के आयोजन में सभी न्यायिक अधिकारी अधिक से अधिक मामलों के निस्तारण पर ध्यान केंद्रित करें। जिला विधिक सेवा प्राधिकरण की सचिव रेनू यादव, मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट अंजू राजपूत, महेंद्र कुमार रावत, गजेंद्र सिंह, ऋचा अवस्थी, तुषार जायसवाल आदि न्यायिक अधिकारी मौजूद रहे। उधर, एक अन्य बैठक में सीएमओ के प्रतिनिधि डॉ. जितेंद्र कुमार ने कहा कि आशा कर्मचारियों से राष्ट्रीय लोक अदालत के आयोजन का गांव-गांव प्रचार कराया जाएगा। बैठक में अन्य विभागों से आए प्रतिनिधियों ने भी अपने पूर्ण विभागीय सहयोग का आश्वासन दिया। बैठक में डॉ.भूप नारायण, मुकुल तिवारी, अश्वनी व्यास, सुरेश कुमार आदि उपस्थित रहें।