IPL Title Sponsor: टाइटल स्पॉन्सर करने वाली मोबाइल कंपनी वीवो ने लीग के स्पॉन्सरशिप से अपना नाम लिया वापस

आईपीएल 2022 में बड़ा बदलाव देखने को मिलेगा। टाइटल स्पॉन्सर करने वाली मोबाइल कंपनी वीवो ने लीग के स्पॉन्सरशिप से अपना नाम वापस ले लिया है। टाटा ग्रुप ने वीवो को टाइटल स्पॉन्सर के रूप में रिप्लेस किया है। आईपीएल के चेयरमैन ब्रिजेश पटेल ने भी इसकी पुष्टि की है। मंगलवार को आईपीएल गवर्निंग काउंसिल की मीटिंग के दौरान उन्होंने कहा कि हां, टाटा ग्रुप आईपीएल टाइटल स्पॉन्सर के रूप में आ रहा है।

आने वाला सीजन कहलाएगा टाटा आईपीएल

आने वाला सीजन यानी आईपीएल 2022 को टाटा आईपीएल के नाम से जाना जाएगा। ब्रिजेश पटेल ने कहा कि वीवो ने अधिकारों के हस्तांतरण का अनुरोध किया था, जिसे गवर्निंग काउंसिल ने पारित कर दिया। इन अधिकारों का हस्तांतरण से भी बीसीसीआई को 440 करोड़ रुपये की ही आमदनी होगी।

वीवो का दो साल का कॉन्ट्रैक्ट बचा था

वीवो के पास अभी भी दो साल की स्पॉन्सरशिप बची हुई थी। अब हस्तांतरण के बाद टाटा इतने समय (दो साल) तक आईपीएल को स्पॉन्सर करेगा। वीवो ने 2018 में आईपीएल के लिए टाइटल स्पॉन्सरशिप 440 करोड़ प्रति वर्ष में खरीदी थी। भारत-चीन सीमा गतिरोध के कारण आईपीएल 2020 सीजन में यह सौदा स्थगित कर दिया गया था।

वीवो ने पांच साल के लिए खरीदा था अधिकार

वीवो ने 2018 से 2022 तक पांच साल के लिए आईपीएल टाइटल स्पॉन्सरशिप अधिकार 2,190 करोड़ रुपये में जीता था। प्रमुख स्मार्टफोन ब्रांड ने 2020 में स्पॉन्सरशिप अधिकार को भारत-चीन गतिरोध के कारण ड्रीम-11 के हाथों गंवाने के बाद आईपीएल 2021 में वापसी की और टाइटल स्पॉन्सर किया। हालांकि, अब कंपनी ने फिर से बाहर निकलने का फैसला किया है।

वीवो ने हस्तांतरित किए स्पॉन्सरशिप अधिकार

वीवो ब्रांड ने अब टाटा को आईपीएल के अधिकार हस्तांतरित कर दिए हैं। अब आईपीएल को टाटा आईपीएल कहा जाएगा। ड्रीम-11 2020 संस्करण के लिए आईपीएल टाइटल प्रायोजक रहा था। उसने 222 करोड़ रुपये में स्पॉन्सरशिप के अधिकार जीते थे। आईपीएल 2020 कोरोना के चलते यूएई में खेला गया था।

आईपीएल 2022 में 10 टीमें खेलेंगी

आईपीएल 2022 में आठ की जगह 10 टीमें खेलती दिखाई पड़ेंगी। अहमदाबाद और लखनऊ दो नई फ्रेंचाइजी हैं। बीसीसीआई ने आईपीएल के लिए दो नई टीमों का एलान 25 अक्तूबर को किया था। लखनऊ को आरपीएसजी वेंचर्स लिमिटेड ने 7090 करोड़ रुपये और अहमदाबाद को सीवीसी कैपिटल ने 5625 करोड़ रुपये में खरीदा था।