याद किए गए समाजवादी पुरोधा सगीर अहमद, दादा रामकरन सिंह, गौरी भैया, सत्यदेव सिंह, सुरेन्द्र प्रताप सिंह, शिव कुमार राय, माँह्वयी शरण, बाँके लाल शर्मा और सम्मानित किए गए सानन्द, विवेक और प्रदीप

लोकबन्धु राजनारायण की पुण्यतिथि पर नेता प्रतिपक्ष ने किया आचार्य नरेंददेव, जयप्रकाश नारायण, डाक्टर लोहिया, चन्द्रशेखर और राजनारायण के कलेण्डर का लोकार्पण 

सम्पूर्ण क्रांति के सपने को जमीन पर उतारने वाले आन्दोलन की गाज़ीपुर करे शुरुआत - नेता प्रतिपक्ष

समाजवादी आन्दोलन का शानदार इतिहास जीने की आज सर्वाधिक जरूरत - ओमप्रकाश सिंह

पुरखों के बताए रास्ते पर चलने से ही मजबूत होगा समाजवादी आन्दोलन - डाक्टर वीरेन्द्र यादव 

गाज़ीपुर। शुक्रवार को  लोकबन्धु राजनारायण की पुण्यतिथि के अवसर पर  समाजवादियों ने समाजवादी आन्दोलन के पितामह आचार्य नरेन्द्र देव, लोकनायक जयप्रकाश नारायण, डाक्टर राममनोहर लोहिया, राष्ट्रपुरुष चन्द्रशेखर लोकबन्धु राजनारायण का हृदय से वंदन किया, समाजवादी आन्दोलन के प्रमुख सेनानी रहे सत्यदेव ग्रूप ऑफ कॉलेजेज के संस्थापक बाबू सत्यदेव सिंह, पीजी कालेज, गाज़ीपुर के प्राचार्य रहे सुरेन्द्र प्रताप सिंह और अभी उम्मीद ज़िन्दा है पुस्तक के विचार सम्पादक शिवकुमार राय ( गाज़ीपुर ), राष्ट्रपुरुष चन्द्रशेखर के पदचिन्हों पर चलने वाले पूर्व मंत्री गौरी भैया  ( बलिया ), आचार्य नरेंद्र देव के नेतृत्व में समाजवादी जीवन शुरू करने वाले दादा रामकरन सिंह ( गोरखपुर ) और सैय्यद सगीर अहमद ( सहसवान, बदायूँ ), लोकबन्धु राजनारायण के कदम से कदम मिलाकर चलने वाले के माँह्यवी शरण ( वाराणसी ) और बाँके लाल शर्मा ( जौनपुर ) को मर्मस्पर्शी तरीके से याद किया और अपने पिता के अधूरे सपने को पूरा करने में लगे डाक्टर सानन्द कुमार सिंह, विवेक कुमार शम्मी सिंह और प्रदीप कुमार शर्मा को अंगवस्त्रम प्रदान कर सम्मानित किया।

समारोह में मुख्य अतिथि के रूप में उपस्थित राजनीति में सादगी और ईमान के पर्याय नेता प्रतिपक्ष रामगोविंद चौधरी ने इस अवसर पर आचार्य नरेन्द्रदेव, लोकनायक जयप्रकाश नारायण, डाक्टर  राममनोहर लोहिया, राष्ट्रपुरुष चन्द्र शेखर और लोकबन्धु राजनारायण के चित्र वाला समाजवादी कलेण्डर लोकार्पित किया,  समाजवादी पुरखों की याद में शानदार  आयोजन के लिए वरिष्ठ पत्रकार एवं जनकवि धीरेन्द्र नाथ श्रीवास्तव, लोकनायक जयप्रकाश नारायण ट्रस्ट लखनऊ के अध्यक्ष अनिल त्रिपाठी और मानव सेवा समिति, सिखड़ी, गाज़ीपुर के प्रबंधक रमेश यादव की जमकर सराहना की तथा कहा कि जिस सपने को हासिल करने के लिए स्वतन्त्रता की लड़ाई लड़ी गयी, जिस सपने को सम्पूर्ण क्रांति की लड़ाई लड़ी गई, वह सपना आज भी अधूरा है। उन्होंने कहा कि उस सपने को मूर्त रूप देना आज की सर्वाधिक बड़ी जरूरत है। इस सपने को मूर्त रूप देने की शुरुआत गाज़ीपुर को करनी चाहिए।

1980 के बाद के सभी छात्र, युवा और जनआन्दोलनों के गवाह, नायक, महानायक रहे पूर्व मन्त्री ओमप्रकाश सिंह ने कहा कि आज़ादी की लड़ाई रही हो या अभिव्यक्ति की स्वतन्त्रता की, दोनों ही संघर्षों में समाजवादियों की शानदार भूमिका रही है।  आज देश और प्रदेश विषम परिस्थितियों से गुजर रहा है, उससे निजात दिलवाने के लिए  समाजवादी संघर्ष के शानदार इतिहास को फिर से जीने की जरूरत है।

समारोह में विशेष अतिथि के रूप में उपस्थित गाज़ीपुर की उम्मीद विधायक डाक्टर वीरेन्द्र यादव ने कहा कि समाजवादी पुरखों के बताए रास्ते पर चलकर ही देश में समाजवादी व्यवस्था लागू हो सकती है। युवापीढ़ी को इसके लिए आगे आना चाहिए।

समारोह में लोकबन्धु राजनारायण, राष्ट्रपुरुष चन्द्रशेखर, डाक्टर राममनोहर लोहिया, लोकनायक जयप्रकाश नारायण, आचार्य नरेंददेव, बाबू सत्यदेव सिंह, दादा रामकरन सिंह गोरखपुर,  सैय्यद सगीर अहमद, सुरेन्द्र प्रताप सिंह, शिवकुमार राय, माँह्वयी शरण, बाँके लाल शर्मा और गौरी भैया के चित्र एक साथ लगे थे। पूर्व मंत्री ओमप्रकाश सिंह और विधायक डाक्टर वीरेंद्र यादव ने इन चित्रों पर पुष्प अर्पित कर शुरुआत की जिसे दलित आचार्य दिलीप कुमार गौतम ने मंत्रोचार से गतिप्रदान की।राष्ट्रपुरुष चन्द्रशेखर के इलेक्शन एजेंट रहे द्विजेन्द्र मिश्र, 1974 के जुझारु नेता मधुसूदन सिंह, दो जनपदों में बारी बारी प्रमुख रहे लुट्टर राय, समाजवादी नेता डाक्टर सानन्द कुमार सिंह, विवेक कुमार शम्मी सिंह, संस्कृत के आचार्य डाक्टर दिलीप कुमार गौतम, काशी विद्यापीठ के जुझारु छात्र नेता रविभान सिंह, वरिष्ठ समाजवादी नेता रामबृक्ष यादव आदि ने समारोह को सम्बोधित किया औऱ लोगो से समाजवादी पुरखों के पथ पर चलने की अपील की। 

समारोह में पूर्व सांसद राधेमोहन सिंह, सपा के जिलाध्यक्ष रामधारी यादव, पूर्व जिला पंचायत अध्यक्ष डाक्टर सीमा यादव, समाजवादी महिला सभा की अध्यक्ष आशा यादव, रमेश यादव पत्रकार, रामाश्रय चौहान प्रधान, डाक्टर शिवप्रताप सिंह, डाक्टर जगराम शर्मा, सुरेन्द्र पाण्डेय, ऐनुद्दीन अहमद, बृजेश यादव, हरेंद्र चौहान, अशोक चौहान, रामजी यादव, हरिकेश यादव, रामनाथ ठाकुर और पारस राय आदि भी शामिल रहे। समारोह की अध्यक्षता वरिष्ठ पत्रकार जनकवि धीरेन्द्र नाथ श्रीवास्तव और संचालन मानव सेवा समिति सिखड़ी के प्रबंधक रमेश यादव ने किया।