निर्वाचन व्यवस्थाओं की समीक्षा के लिए जिलाधिकारी की अध्यक्षता में सम्पन्न हुई बैठक

बहराइच। जनपद में विधानसभा सामान्य निर्वाचन-2022 को स्वतन्त्र, निष्पक्ष एवं शान्तिपूर्ण ढंग से सम्पन्न कराये जाने के लिए जिलाधिकारी डॉ. दिनेश चन्द्र ने कलेक्ट्रेट सभागार में निर्वाचन की विभिन्न व्यवस्थाओं के लिए तैनात किये गये प्रभारी व सहायक प्रभारी अधिकारियों के साथ आयोजित बैठक में अब तक की गयी तैयारियों की गहन समीक्षा की। जिलाधिकारी ने सभी प्रभारी अधिकारियों को निर्देश दिया कि निर्वाचन जैसे अतिमहत्वपूर्ण कार्य को भारत निर्वाचन आयोग की मंशानुरूप सम्पन्न कराये जाने को एक चुनौती के रूप में स्वीकार करें तथा यह सुनिश्चित करें कि सभी कार्य समयबद्धता के साथ अन्जाम दिये जायें।

मतदान कार्मिक, इलेक्ट्रानिक वोटिंग मशीन, यातायात, प्रशिक्षण, लेखन सामग्री, प्रेक्षक व्यवस्था, निर्वाचन व्यय अनुवीक्षण, डाक मतपत्र, वेबकास्टिंग, सूचनाओं का आनलाईन प्रेषण, निर्वाचन कन्ट्रोल रूम, बैरीकेटिंग, प्रकाश, वीडियोग्राफी एवं फोटोग्राफी, एमसीएमसी, निर्वाचन प्लान, मतदाता शिक्षा एवं निर्वाचक सहभागिता (स्वीप) कार्यक्रम सहित अन्य व्यवस्थाओं के लिए नियुक्त किये गये प्रभारी अधिकारियों से एक-एक कर जिलाधिकारी ने अब तक की गयी प्रगति के सम्बन्ध में जानकारी प्राप्त करते हुए आवश्यक दिशा निर्देश दिये। डीएम डॉ. चन्द्र ने सभी अधिकारियों को निर्देश दिया कि प्रत्येक स्तर पर भारत निर्वाचन आयोग के दिशा निर्देशों का अक्षरशः अनुपालन सुनिश्चित कराया जाय। उन्होंने सभी अधिकारियों से कहा कि निर्वाचन के सम्बन्ध में सौपी गयी जिम्मेदारियों को पूरा करने में अपने-अपने अनुभव का भी फायदा उठायें।

मतदान कार्मिक व्यवस्था कार्य की समीक्षा के दौरान मुख्य विकास अधिकारी/प्रभारी अधिकारी मतदान कार्मिक कविता मीना ने बताया जनपद में मास्टर ट्रेनर्स के प्रशिक्षण कार्य को पूर्ण कर लिया गया है। उन्होंने बताया कि प्रशिक्षित मास्टर ट्रेनर्स जिले की सातों विधानसभा निर्वाचन क्षेत्रों के लिए तैनात किये जाने वाले मतदान कार्मिकों को प्रशिक्षण प्रदान करेंगे। जिलाधिकारी ने डीआईओएस को निर्देश दिया कि स्वीप कार्यक्रम को प्रभावी ढंग से संचालित करायें ताकि आयोग की मंशा के अनुरूप मतदान में शत-प्रतिशत मतदाताओं की सहभागिता सुनिश्चित की जा सके। मतदान कार्मिकों के प्रशिक्षण के सम्बन्ध में डीएम डॉ. चन्द्र ने निर्देश दिया कि प्रशिक्षण कार्यक्रम की गुणवत्ता को सर्वोपरि रखा जाय। विशेषकर ई.वी.एम. के प्रशिक्षण को खास तरजीह दी जाय।

यातायात व्यवस्था के सम्बन्ध में निर्देश दिया गया कि जनपद के लिये सभी प्रकार के वाहनों का आंकलन आवश्यकतानुसार कर लिया जाय। डीएम डॉ. चन्द्र ने अन्य व्यवस्थाओं की भी समीक्षा की और नोडल अधिकारियों को निर्देश दिया कि सौंपे गये कार्यो को समय से पूर्ण कराएं और आवश्यकतानुसार उसकी रिपोर्टिंग भी समय से करते रहें। जिलाधिकारी ने कहा कि उन्हें आशा ही नहीं पूर्ण विश्वास है कि सभी अधिकारी जिन्हें पूर्व में भी ऐसे चुनौतीपूर्ण कार्याे को सम्पन्न कराये जाने का अनुभव, विधान सभा निर्वाचन के लिए सौपी गयी जिम्मेदारियों का निर्वहन कर जनपद में फ्री एण्ड फेयर इलेक्शन सम्पन्न करायेंगे।

बैठक का संचालन उप जिला निर्वाचन अधिकारी मनोज ने किया। इस अवसर पर मुख्य विकास अधिकारी कविता मीना, मुख्य राजस्व अधिकारी अवधेश कुमार मिश्र, अपर पुलिस अधीक्षक नगर ज्ञानंजय सिंह, नगर मजिस्ट्रेट ज्योति राय, उप जिलाधिकारी सदर सौरभ गंगवार आईएएस, मुख्य चिकित्साधिकारी डॉ. एस.केे. सिंह, जिला विकास अधिकारी राजेश कुमार मिश्र, पी.डी. डीआरडीए अनिल कुमार सिंह सहित विभिन्न व्यवस्थाओं के लिए नामित प्रभारी व सहायक प्रभारी अधिकारी मौजूद रहे।