आयुष मंत्रालय ने दी सर्दियों में देसी घी खाने की सलाह, जानें कैसे करें सेवन?

आपने अक्सर अपनी दादी-नानी से देसी घी खाने के बारे में सुना होगा। मगर बहुत से लोग वजन बढ़ने के डर से इसका सेवन करने से कतराते हैं। मगर आयुर्वेद अनुसार, देसी घी खाने में स्वाद और सेहत के लिए फायदेमंद होता है। यह पोषक तत्वों व आयुर्वेदिक गुण से भरपूर होता है। इसका सेवन करने से इम्यूनिटी बूस्ट होने में मदद मिलती है। खासतौर पर सर्दियों में इसका सेवन करने से दोगुना फायदा मिलता है। ऐसे में रोजाना 1 चम्मच देसी घी अपनी डेली डाइट में शामिल कर सकते हैं। आयुष मंत्रालय ने भी देसी घी खाने की सलाह दी हैं। चलिए जानते हैं इसके बारे में विस्तार से...

देसी घी में मौजूद पोषक तत्व

देसी घी में ओमेगा-3, 9 फैटी एसिड, विटामिन ए, के, ई, कैल्शियम, फॉस्फोरस, मिनरल्स, पोटैशियम आदि पोषक तत्व मौजूद होते हैं। इसका सेवन करने से मांसपेशियों व हड्डियों में मजबूती आती है। इम्यूनिटी व पाचन तंत्र दुरुस्त रहने में मदद मिलती है। ऐसे में इसे सेहत के लिए किसी खजाने से कम नहीं कहा जा सकता।

आयुष मंत्रालय ने दी देसी घी खाने की सलाह

वहीं देशभर में कोरोना के नए-नए वेरिएंट दस्तक दे रहें हैं। इससे बचने के लिए एक्सपर्ट द्वारा इम्यूनिटी स्ट्रांग करने के लिए खासतौर पर सलाह दी जा रही है। ऐसे में आयुष मंत्रालय ने भी अपने ट्विटर अकाउंट में पोषक तत्वों से भरपूर देसी घी खाने के तरीके व इसके फायदे बताएं हैं। चलिए जानते हैं इसके बारे में..

आयुर्वेद चिकित्सा पद्धति में अनेक औषधियां के निर्माण में घी का प्रयोग किया जाता है। घी का समुचित प्रयोग शारीरिक एवं मानसिक स्वास्थ्य के लिए भी अच्छा है। आज जानते हैं घी किन किन रोगों में लाभकारी है।

घाव और जली त्वचा से आराम दिलाएगा

कई बार गैस पर काम करते दौरान त्वचा जलने व घाव पड़ने की परेशानी हो जाती है। इससे आराम दिलाने के लिए देसी घी एक आयुर्वेदिक औषधि मानी गई है। इसके लिए हल्दी और मुलेठी के चूर्ण को देसी घी में मिलाकर उबालें। फिर ठंडा करके उसे प्रभावित जगह पर लगाएं। इससे दर्द से राहत मिलने के साथ घाव जल्दी भरने में मदद मिलेगी।

भूख ना लगने की समस्या से राहत दिलाएगा देसी घी

जो लोग भूख ना लगने की समस्या से परेशान रहते हैं। इसके अलावा कई बच्चों को भी भूख कम लगने की समस्या होती है। आयुर्वेद अनुसार, भूख बढ़ाने में देसी घी कारगर माना गया है। इसके लिए एक चुटकी हींग, भुना हुआ जीरा घी में मिलाकर इसका सेवन करें। कुछ दिन ऐसा करने से आपको भूख लगनी शुरु हो जाएगी।

बच्चों की स्मरण शक्ति को बढ़ाएगाा देसी घी

कोरोना के कारण बच्चे ऑनलाइन क्लासिस या टाइम पास करने के लिए मोबाइल, टी.वी, लैपटॉप आदि इलेक्ट्रॉनिक गैजेट का जरूरत से ज्यादा इस्तेमाल कर रहे हैं। हेल्थ एक्सपर्ट अनुसार, इससे बच्चे के दिमाग पर बुरा असर पड़ता है। इसके कारण उनकी स्मरण शक्ति कम हो सकती है। ऐसे में आप बच्चों की याददाश्त बढ़ाने के लिए उनकी डेली डाइट में देसी घी शामिल कर सकते हैं।

कब्ज की समस्या को दूर करेगा देसी घी

सर्दियों में लोग अक्सर एक्सरसाइज कम कर पाते हैं। इसके साथ ही वे खाने के तुरंत बाद ही सो जाते हैं। मगर इस रूटीन के कारण पाचन तंत्र धीमा होने व खासतौर पर कब्ज की समस्या हो सकती है। ऐसे में अगर आप भी कब्ज से परेशान हैं तो इससे बचने के लिए देसी घी का सेवन कर सकते हैं। इसके लिए आयुष मंत्रालय ने बताया है कि सोने से पहले 1 एक कप गर्म दूध में पांच मि.ली घी और थोड़ी मिश्री मिलाकर पीने से कब्ज से आराम मिलता है।

इस बात का रखें खास ध्यान

दिल या हाई कोलेस्ट्रॉल की समस्या से परेशान लोगों को देसी घी का सेवन करने से पहले एक बार डॉक्टर की सलाह जरूर लें।